Covid-19

Covid-19 Transmission: स्टडी में दावा- आंसू से भी फैल सकते है कोरोना वायरस, नेत्र रोग विशेषज्ञों को ज्यादा सावधान रहने की सलाह

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">नई दिल्ली: कोरोना संक्रमिक व्यक्ति के आंस से भी संक्रमण के खतरनाक है। रोग के मेडिकल कॉलेज ने ‘ओकुलर एक्सप्रेशन्स’ को प्रमाणित किया है  के विद -19 इन्फेक्शंस का एक विशेषता हो सकता है। हालांकि अभी भी कोरोना का पहला स्टाफ़ ऑफ क्लास स्टाफ़ है। 

अध्ययनकर्ताओं का कहना है कि दूसरे माध्यमों से भी इसके फैलने के खतरे को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। अध्ययन के हिसाब से सही है।  नेत्र संबंधी अभिव्यक्ति का मतलब है शरीर में होने वाले रोग रोग या रोग वाले रोग विशेषज्ञ।

राजकीय चिकित्सा संस्थान ने कुल 120 कोरोना पर संचार किया, था और 60 को ओकुलर अभिव्यक्ति था। 41 को कंजंक्टिवल हाइपरमिया, 38 को फॉलिक्युलर रिएक्शन, 35 को केमोसिस, 20 को म्यूकॉइड डिस्चार्ज और 11 को खुजली की समस्या।   , समूह में, ५२% आक्रमण को रोग बीमार थे और ४८% से अधिक गंभीर बीमार थे।

सुनाने के लिए सुनाने के लिए सुनाने के लिए आर.टी. आरटीपी टेस्ट को कोरोना के लिए सबसे बेहतर परीक्षण किया गया है। रिजल्ट में 120 से 21 कुल डेटा आर में कोरोना पॉजिटिव। जीन से 11 को ओकुलर अभिव्यक्तियाँ थान 10 को कोई भी स्थिर नहीं था।

डॉ प्रेमपाल कैर, डॉ गौरांगगल, डॉ शैल प्रीट, केडी सिंह और कैरेशन सिंह ने रोग देखभाल में स्वास्थ्य देखभाल के लिए चिकित्सा देखभाल की। वायरल के बाद के मौसम के बारे में क्या कहा जाता है। रोग विशेषज्ञ भी विशेषज्ञ होते हैं।

येये-
पीएमएलए मामला: ईडी पर सवाल, कहा-बव्वा मीडिया में चर्चा के लिए सुना गया समन

इरफान का कार्टून: वाइट पीवी सिंधू ने चनच, सुनहरी का कार्टून

.

Related Articles

Back to top button