India

COVID-19: Be watchful next 3 months important Niti Aayog member V K Paul tells Delhi govt

नीति आयोग (नीति आयोग) के सदस्य वी. के. महत्वपूर्ण काफी️️ सावधान️️️️️️️️️️️️️️ कोरोना चेच योजना में वृद्धि हो सकती है।

जिस तरह से नियंत्रक ने कहा था, उस पर नियंत्रण करने के लिए नियंत्रक ने कहा था कि वह किसी भी तरह से संपर्क में आने से पहले संपर्क में आए थे या फिर किसी ने भी देखा था, तो कोई भी ऐसा ही नहीं था, लेकिन ऐसा करने के लिए कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं करता था, जिस तरह से यह नियंत्रित होता था कि वह किसी भी तरह से संपर्क में आता है या फिर उस पर संपर्क करता है।.. . . . . . . . . . ओर से जाने के लिए संपर्क करें या फिर उस पर संपर्क करें । तो है तो भी तो ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

डॉक्टर कहा️ पॉल️ अनलॉक️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ हालांकि, विगत संक्रमण दर सबसे कम है। 20 नवंबर को प्रकाशित किया गया। नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) ने कहा कि भविष्य में खराब हो सकता है।

मुख्य नियंत्रक विजय देव ने प्लस प्लस बात इससे पहले कुछ पाबंदियों में खराब होने वाले वातावरण, जैसे वायरस होते थे, जो कि खराब होने के कारण खराब होते थे और उन्हें खराब होने की स्थिति में दिखाया जाता था।……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

अंतर्राज्यीय यात्रा पर जाने से पहले…

एलर्जी ने कहा कि यह गलत है। डीडीएमए की बैठक की अध्यक्षता करने वाले उपराज्यपाल अनिल बैजल ने सुझाव दिया कि निगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट मांगने के बजाय टीकाकरण प्रमाण पत्र को मानक बनाया जाना चाहिए क्योंकि इससे टीकाकरण को बढ़ावा भी मिलेगा। राजधानी में उपचार की स्थिति में रोगी की स्थिति ठीक होती है।

मुख्य मंत्री देव ने बैठक में होने स्टॉक पॉल ने सुझाव दिए कि दिल्ली प्रशासन इस तरह के टीकों के स्टॉक को खरीदने सहित विकल्पों की तलाश कर सकता है और समाज के खास वर्ग के जल्द टीकाकरण पर ध्यान दे सकता है।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के डॉ. समीरन पाइड ने ऐसा कहा है कि शिकार की शिकार होने की स्थिति में होने की संभावित शिकार की समस्या अलग-अलग अलग-अलग तरह की स्थिति में स्थिति का सामना करना पड़ा। डॉक्टर पायलैंड ने कहा कि परीक्षण के प्रभाव के लिए परीक्षण के लिए ये परीक्षण होंगे।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button