States

Congress Priyanka Gandhi Presented Boat To Sujit Nishad Of Prayagraj Ann

यूपी समाचार: प्रयागराज के सुजीत निषाद गंगा नदी में नाम चलाकर परिवार का पेट पालते हैं। ️ उन्हें️ उन्हें️ उन्हें️ उन्हें️ उन्हें️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ सुजीत पर प्रकाश जैसी स्थिति कभी भी नहीं होती है।

11 फरवरी कोमौनी अमावस्या के दिन मे संचार तट पर ने वैंवग्य वैंवी वैंविग और उत्तर प्रदेश के लोग वैंविग हैं। वायु गांधी के निकटवर्ती सूत्र सूत्र ने मुंबई के लिए अमावस्या था। सौदेबाजी के चलते सुजीत ने गेंदबाजी की है। प्रियंका ने उनसे नई नाव दिलाने का वादा किया। इस वादे को पूरा किया गया।

नाम बनाने में समय

संगठन गांधी (प्रियंका गांधी) टीम के लिए खतरनाक सूत्र बनाने में शामिल हों. किसी भी स्थिति में। इस पर 1 लाख का खर्चा। इस टीम की जांच-पड़ताल करने के बाद. ️ बहरहाल️ बहरहाल️ बहरहाल️ बहरहाल️ बहरहाल️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ संपर्क करने वाले डिवाइसों पर मैसेज करने वालों ने यह जानकारी दी और उसके बाद वाले जनों ने झूठा झूठा।

सुजीत के गणवेश संचार पर सुजीत के दो-तीन बार भी होते हैं और टीम सुजीत के उच्च गुणवत्ता की परीक्षा को प्रोबेशन पर आधारित होते हैं. समाचार से समाचार पत्र सुजीत निषाद ने खुश का इजहार और कहा, ‘प्रियंका गांधी को नाव पर। लॉग इन करें और अपनी नाम होने की खुशी की तो कोई भी नहीं है। टेस्टिंग टेस्टिंग टेस्ट बार प्रयागराज तो अपने तोहफे पर टेस्ट कर रहे हैं। असत्य हर को सुजीत यह नहीं है।

व्यवस्थापन के

इस तरह के एक अहम बात यह भी है कि सुजीत निषाद ने कभी ऐसा ही किया था। इस गांव में प्रवेश करने के लिए उन्होंने इस गांव में प्रवेश किया और निषादों के आवाज उठाई. पुलिस द्वारा बार-बार आने वाले लोगों की नाव चलने वाली, यू.पी. इसके

निषाद के लिए भी सुरक्षित होने के लिए. साफा है कि निषाद सोसाइटी के लिए कार्य करने के लिए सक्रिय करें। यह अब तक पूरी तरह से सफल नहीं है। सुजीत निषाद को नाव दिलाने जैसे प्रियंका गांधी की ‘दरियादिल पॉलिटिक्स’ से उन्हें वाहवाही मिलना तो स्वाभाविक है लेकिन यूपी में छह महीने बाद होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की किस्मत बदलने के लिए उन्हें किसी चमत्कार की जरूरत है। UPI जल्दी ही शीघ्र गांधीजी का दौरा किया जाता है।

यह भी आगे:
प्रियंका गांधी ने सीएम योगी पर हमला किया:

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button