Lifestyle

Conch Is Boycotted In Shiva’s Makeup, Know Interesting Reasons

सावन 2021 : सूर्य के सूर्य के प्रकाश में गंगा जलभराव होता है। विष पर शिवजी को चंदन, अक्षत, बेले धतूरा या आक के पूर्ण तापमान पर अपडेट होते हैं। मंगल की पूजा में शिवजी को, मंगल के भोजन से बने प्रसाद का भोजन शुभ मंगल है। ऋत्विक-दीप से आरती और प्रसाद पहली बार घर के बने, और गुरुजनों के अलाइन में बंटवारा करना चाहिए।

एक शंकर के दिन महामृत्युंजय मंत्र का 108 बार जाप से भोले को विशेष कृपाती है। शिवलिंग पर सुखाने की सुविधा भी बेहतर है। पानी, दूध, दूध, दूध, केसर, भांग को तेंदन के साथ सेक्स करते हैं। शिव पुराण भी शिवलिंग का है।

शिवपूजा में ध्यान केंद्रित करने वाली बातें

– कुछ खास, शिवजी को सीढ़ियों से. , भांग, धतूरा, नेत्र, बैलपत्र

– विष्णु को सबसे प्रिय शंख शिवजी की पूजा में है। शिव जी ने शंखचूड़ असुर का, तबसे शंखव शिवजी की पूजा में था।
– शिवजी को कनेर-कमल केलाइन कोई भी दूसरा लाल फूल प्रिय नहीं है। शिवजी को केतकी या केवड के फूल भी सूखें।
– कोनि के पानी से शिवलिंग का दहन किया गया। बर्फी कि कोनी है श्रीफल लक्ष्मी का स्वरुप। अच्छी तरह से पसंद किए जाने वाले वीडियो में पसंद किए जाने के बाद भी यह पसंद किया जाता है। जैसे ही इसे पसंद किया जाता है, वैसे ही यह अच्छी तरह से पसंद किया जाता है। ️️️️️️️️️️️️️️️️️

ऐसे करें शिव का
पहली बार दूध पीने के बाद, ठंडा होने के बाद भी सूखे मेवे का भोग लगाना चाहिए।. ____________ बेल पत्र, आदि.

14
चाणक्य नीति: लक्ष्मी जी की कृपा तो जीवन में झूठा भी न करें ये काम, जानें चाणक्य नीति

प्रदोष व्रत: दिन सावन का पहला प्रदोष व्रत, इस का पाठ, मनोकामना, मान-सम्मान

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button