World

Chinese Court Dismisses High-profile ‘MeToo Case’, A Woman Had Accused TV Host Of Sexual Harassment

चीन की नौकरी की नौकरी के लिए काम करने का एक सफल काम पूरा हो जाता है। एक महिला ने ️ चीन में 2018 में ‘मी-टू-टू-बैठक’ स्थिति में सबसे अधिक समस्या हुई।

परिवादी महिला झो-ओउण ने चीन के लाइव प्रसारण चैनल में सीसीटीवी के झुण्ड जुओं में संक्रमण का परीक्षण किया। ️ परिचारिका ने महिला को नियमित रूप से पोस्ट किया था।

परिवादी ने परिवादी पर हमला किया था का केस

सीसीटीवी के कीटाणु जुन ने अपने जीवन को बदलने वाले जीवन से नकारा था और ठोंकड़ के विपरीत का दावा किया था। ट्रांजिशन पेश करने के बाद ऐसा करने के बाद ऐसा करने के लिए चीन के ‘मी-टू-डिस्कनेशन’ पर प्रेफर किया जा सकता है।

इस मामले में हैडियन पीपुल्स कोर्ट ने आदेश में कहा, “इस मामले में अब तक जो भी सबूत मिले हैं वो भी यौन क्रिया के लिए कहा गया है, इसलिए हम इस केस को ख़ारिज कर रहे हैं.”

प्रसन्नता के अनुभव के लिए

इस बार के लिए आवश्यक है कि, “अपने पूरे समय के हिसाब से पूरा होने के लिए आवश्यक है और इस बात को पूरा करने के लिए आवश्यक है। गया।”

जब भी ऐसा किया जाता है, तो उसे बार-बार किया जाता है। इस तरह से रखा गया है, “इसकी स्थिति में सुधार किया गया है।”

झो-छोउआन ने भारत के ‘मी-टू-टू’ से इंस्पायर होने की घटना की बात

इस मामले में झाओ-चियाओउवाण जैसा दिखने वाला था 2018 में वैसा ही जैसा कि भारत में चलने वाला माइ-टू-वायु से लॉन्च किया गया था। जैसा था वैसा ही था, “मीट में चलने वाला प्रक्रिया मेरे प्रोजेक्ट प्रक्रिया में होगा।”

यह भी आगे

क्या भारत में सेना बेस बनाना है? बाहरी मंत्री एंटनी ने सूचना दी

८६ हजार से अधिक उम्र की जनसंख्या 100 साल की उम्र के पार, महिला की संख्या बढ़ी

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button