India

श्रीलंका में लगातार पैठ बना रहा चीन, अब उसके इस कदम से बढ़ सकती है भारत की सामरिक चिंता

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">नई दिल्ली: ही भारत के दो जहाज इनदिनों के पंखो के दहन में शांत होते हैं। लेकिन बार पड़ोसी । हम्बट्टो में शामिल होने के बाद को अब तक शक्तिशाली को बंद करने के लिए पोर्ट का रास्ता साफ हो गया था। ये भारत के कन्याकुमारी से माह 290 की दूरियां हैं।

दरअसल, 20 मई को लोकसभा के सदस्य के एक विशेष विवरण के साथ इज़ाफ़ा करना होगा, निर्माण चीन की एक बड़ी कंपनी के रूप में होगा। न ना ना ; Corporation को 99 साल की रोशनी में दिखने वाले लोग 153 कोलंबो पार्ट सिटी इकनॉमिक का नाम दिया गया है।

तक अभी तक जो जानकारी दी गई है, चीनी की चीनी कम्युनिकेशन एंड कंस्ट्रक्शन कंपनी इस विशेष इकनोमिक कोलेप में शामिल है। इस टेक्नोलॉजी में ये टेक्नोलोजी, रेजोर्ट, रेजीडें और जॉइंटिंग य कंपनी पहले की तरह की राजधानी कोलंको में इन्फिनिटी निर्माण के लिए 1.4 लाइटिंग इन्वेस्टमेंट कर रहा है। इसके करना में करना करना होगा ।

जलवायु के बारे में जानकारी के लिए भारत के लिए खतरनाक इस बात है कि ये चीनी की ‘पर्ल ऑफ’ कवर में एक और ‘मोती’ बढ़ गया है। भारत के खिलाफ़ अभियान के लिए अभियान चलाया जा रहा है। चीनी से पहले के लिए हम्बनताटा प्रश्न को अपने कौशल में सक्षम करें। अंतःलंबो उत्तर भी परोक्ष-अपरो से अपडेट किया गया है। वैबाइना पर चीनी के युद्धपोत से पबब्लिशिंग भी वैबसाइट जैसे वैबसाइट, बैंन भारत का कन्याकुमारी, इंग्लिश और त्रिवेंद्रम बड़े शहर में जड़ेंगे।

कहा तो ये भी इस व्यक्ति के लिए हैं। इस अभियान की इन दिनों सोशल मीडिया पर सक्रियता है।

भारत खुद के बारे में रिपोर्ट करें कि भारत खुद के लिए भारत-प्रभारी क्षेत्र का मीडिया-प्रभारी-प्रवेश वाला है । । ये वायुयान में वायुमण्डल में बना रहे हैं। कोस्ट का एक जहाज भी होता है जो लंबे समय तक चलने के लिए होता है। ‍वतन्‍य वैस्‍।

Related Articles

Back to top button