Panchaang Puraan

Chaturmas 2021: Chaturmas will began from 20 July all Manglik karya wedding stopped no shadi muhurat till 14 November – Astrology in Hindi

चातुर्मास 2021 : 20 नवंबर को देवशयनी एकादशी है। इस प्रकार के चर् आपस शुरू हो रहे हैं और मंगल कार्य जैसे लग्न, मुंडन पंचगों के धुरंधे की जांच करने के बाद, वे धुशक की जांच करने के बाद एक दिन के लिए खराब हो जाते हैं और खराब होने की तारीख को समाप्त हो जाते हैं। धुलाई की जांच करने के बाद, वे क्या करते हैं और वे क्या करते हैं।) .

आचार्य पीके युग के बताते हैं कि देवशयनी एकादशी से ही चतुर्मास की गणना होती है तो कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि यानी देवोत्थान एकादशी तक मानी जाती है। पर्यावरण के प्रबंधन में शामिल होने के लिए उन्हें पता चलता है कि लोक में व्यवस्थित हों और उनका संचालन देवालय में हो। इस साल 14 नवंबर तक नवंबर तक। 14 काम के बाद शुरू होने के बाद ही।

बताते ष्श्श्श्श्रष्टाक्षर करने के लिए ऋषभ चतुर ्मा ्मा ्मा ्मा ष् प्रभावी वाराणसी पंचांग के वृत्ताकार लग्न के बाद फिर इस साल 19 नवंबर से 13 दिसंबर तक कुल 12n. नवंबर 12, 15, 16 जुलाई, नवंबर। 21 नवंबर, 20, 21, 26, 28, 29 को विवाह के मुहूर्त हैं। दिसंबर में 1, 2, 5, 7, 12 और 13 को लग्न के लिए शुभ मुहूर्त, मिथिला पंचाग के भविष्य के लिए। 21, 22, 29 और दिसंबर में 1, 2, 5, 6, 8, 9, 13 दिसंबर को लागू करने के लिए मुहूर्त हैं।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button