Panchaang Puraan

Chandra Grahan : Sutak period will not be valid on lunar eclipse doors of the temple will remain open

चंद्र ग्रहण: बुद्ध पूर्णिमा के दिन 26 मई को इस साल का पहला चंद्रकला है। भारत में यह उपछाया चंद्राला है। उपछाया चंद्रा के सूतक कालांतर में। सूतक काल न होने से सभी शुभ कार्य हो सकते हैं, मंदिर के कपाट भी बंद नहीं होंगे। उपछाया चंद्रा सुबह 2:18 बजे शाम 7:19 पर फाइनल।

वृश्चिक राशि के लोग
ज्योतिष ाचार्य ்एसएस்்एसएस்்்்்்்ி்்ி்்ி்்ி்் चंद्र राशि वृश्चिक राशि और अनुराधा में लग रहा है। वृश्चिक राशि का निर्धारण तय हो गया है और यह तय हो गया है। वृश्चिक राशि के लोगों की छवि खराब हो सकती है। विशेष पेय पदार्थों में अन्य व्यंजन शामिल हैं।

दूध और अनाज का दान
बीजगणित राशि और कमजोर️️️️️️️️️️️️️️ अनाज के बाद अनाज और अनाज का दान करें। यह इस तरह के फ़ॉर्मूला है।

उपछाया चंद्रा का अफ़सर
पृथ्वी के स्वास्थ्य के लिए भी यह आवश्यक है। जब पृथ्वी पर वास्तविक शंख होगा तब वह उपछाया से होगा। उपार्जन का लाभकारी गुणों का परीक्षण किया जा सकता है। इस बर्तन को भी बंद नहीं किया जा सकता है।

.

Related Articles

Back to top button