Education

चालन किसे कहते हैं? | chalan kise kahte hai

meaning of conduction in hindi | chalan kise kahate hain

नमस्कार दोस्तो, यदि आप विज्ञान विषय पढ़ते हैं या फिर विज्ञान विषय में रुचि रखते हैं तो आपने चालन के बारे में तो जरूर सुना हुआ होगा। दोस्तों क्या आप जानते हैं कि चालन किसे कहते हैं, यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं कि चालन किसे कहते हैं, हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का की यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है, तो इसको अंत जरूर पढ़िए।

चालन किसे कहते हैं? | chalan kise kahate hain

दोस्तों कई अलग-अलग प्रकार की परीक्षाओं के अंतर्गत चालन किसे कहते हैं, से संबंधित सवाल पूछे जाते हैं, तथा वहां पर अनेक छात्रों को इस सवाल के बारे में जानकारी नहीं होती है। यदि दोस्तों आपको भी इस विषय के बारे में कोई जानकारी नहीं है, तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि जवाब किसी भी धातु की छड़ का एक सिरा गर्म करते हैं तो वह सीधा उस्मा प्राप्त करके काफी गर्म हो जाता है, और वह उसमें उस सिरे से चल कर दूसरे सिरे को भी गर्म कर देती है। भले ही आप उस सिरे को पूछना के सामने नहीं ले जा रहे हो रहा है, उसमें से काफी दूरी पर है, लेकिन अगर आप किसी धातु कीचड़ के एक सिरे को गर्म कर रहे हैं, तो वह शिरा गर्म होने के बाद दूसरे सिरे को भी गर्म कर देता है, और इसी प्रक्रिया को चालन कहा जाता है।

उस्मा चालकता किसे कहते हैं? | Thermal conductivity in Hindi

दोस्तो जब किसी भी पदार्थ के चालन के द्वारा ऊष्मा का संचरण होता है, या फिर उसमें का स्थानांतरण होता है, तो यह प्रक्रिया उस्मा चालकता कहलाती है। उस्मा चालकता को मुख्य रूप से तीन भागों के अंतर्गत बांटा गया है :-

1. चालक

ऐसे पदार्थ जिनके अंतर्गत ऊष्मा का स्थानांतरण काफी आसानी से हो जाता है या फिर उन के माध्यम से उस में आसानी से गुजर जाती है, चालक कहलाते हैं। उस्मा के चालक के गुण मुख्य रूप से अम्लीय जल तथा लगभग सभी धातुओं के अंतर्गत पाया जाता है।

2. ऊष्मा रोधी

ऐसे पदार्थ जिनके अंतर्गत ऊष्मा का स्थानांतरण नहीं हो पाता है या के उनके अंतर्गत ऊष्मा का चालन बिल्कुल भी नहीं हो पाता है, ऊष्मा रोधी कहलाते हैं।

3. कुचालक

ऐसे पता जिनके अंतर्गत ऊष्मा का चालन तो होता है लेकिन यह बिल्कुल आसानी से नहीं हो पाता है, ऊष्मा की कुचालक कहलाते हैं। वायु, गैस, रबड़, लकड़ी व कांच को उस्मा का सुचालक कहा जाता है।

उपयोग

  • एस्किमो लोग बर्फ की दोहरी दीवारों वाले घरों में रहते हैं: ऐसा इसलिए है क्योंकि बर्फ की दोहरी दीवारों के बीच हवा की परत गर्मी का एक खराब संवाहक है, जिससे अंदर की गर्मी बाहर नहीं जाती है और कमरे के अंदर का तापमान बाहर की तुलना में अधिक होता है। अधिक बनी रहती है।
  • सर्दियों में लकड़ी और लोहे की कुर्सियों का तापमान समान होता है, लेकिन लोहे की कुर्सी को छूने पर लकड़ी की कुर्सी की तुलना में ठंड लगती है: सर्दियों में शरीर का तापमान कमरे के तापमान से अधिक होता है। लोहे की कुर्सी को छूने पर तापमान में अंतर के कारण हमारे हाथों से निकलने वाली गर्मी लोहे की कुर्सी में तेजी से प्रवाहित होती है क्योंकि लोहा गर्मी का अच्छा संवाहक है। इसलिए लोहे की कुर्सी को छूने पर हमें ठंड लगती है लेकिन लकड़ी गर्मी की कुचालक होती है, इसलिए समान तापमान अंतर होने के बाद भी गर्मी हमारे हाथों से लकड़ी में नहीं जाती है और यह हमें ठंडी नहीं लगती है। जब यह लकड़ी की कुर्सी को छूता है।
  • धातु के कप में चाय पीना मुश्किल है जबकि चीनी मिट्टी के कप में चाय पीना आसान है: ऐसा इसलिए है क्योंकि धातुएँ ऊष्मा की अच्छी संवाहक होती हैं, इसलिए जब धातु के कप में चाय पीते हैं, तो चाय से निकलने वाली गर्मी धातु से होकर गुजरती है। और होठों तक पहुँचता है। और होंठ जलने लगते हैं जबकि सिरेमिक गर्मी का एक खराब संवाहक है, इसलिए चाय से निकलने वाली गर्मी सिरेमिक से होठों तक नहीं जाती है और चाय पीना आसान है।

आज आपने क्या सीखा

तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि चालन किसे कहते हैं, हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत के विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। इसके अलावा हमने आपके साथ इस पोस्ट के अंतर्गत चालन से जुड़ी कुछ अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां भी शेयर की है, जैसे कि चालन किसे कहा जाता है, चालकता किसे कहते हैं, उस्मा चालकता क्या होती है तथा ऊष्मा चालकता के कितने प्रकार होते हैं।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह इंफॉर्मेशन पसंद आई है, तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा इस विषय के बारे में अपनी राय हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं।

FAQ

चालन से क्या समझते हैं?

यह ऊष्मा संचरण की एक ऐसी विधि है जिसमें माध्यम के कण भाग तो लेते हैं लेकिन अपना स्थान नहीं छोड़ते। इसमें माध्यम के गर्म भागों से माध्यम के ठंडे भागों में प्रत्येक कण से दूसरे पास के कणों तक गर्मी का संचार होता है।

चालन संवहन और विकिरण क्या है?

चालन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें एक सातत्य के कुछ हिस्सों के बीच सीधे भौतिक संपर्क के माध्यम से गर्मी स्थानांतरित की जाती है। संवहन वह सिद्धांत है जिसके द्वारा किसी द्रव, अर्थात तरल या गैस में धाराओं द्वारा ऊष्मा का संचार होता है। विकिरण एक गर्मी हस्तांतरण तंत्र है, जिसका संक्रमण विद्युत चुम्बकीय तरंगों के माध्यम से होता है।

चालन और उदाहरण की परिभाषा क्या है?

चालन पदार्थ या पदार्थ के कणों के बीच प्रत्यक्ष भौतिक संपर्क के माध्यम से गर्मी या बिजली के रूप में ऊर्जा का हस्तांतरण है। ऊष्मा चालन के उदाहरण गर्म चूल्हे को छूना, या अपने पैरों को गर्म रेत पर जलाना होगा।

Related Articles

Back to top button