Breaking News

Bulli Bai App case this is how the Mumbai Police nabbed Vishal and Shweta

बुली बाई एप्लिकेशन में जब केस दर्ज किया गया था तो रुद्रपुर की श्वेता सिंह को पता चला कि वह ऐप में खतरनाक प्रकार से दर्ज किया गया था। कमांड के आधार पर तेज गति से आगे बढ़ने के लिए। α भाई α भाई α ; सख्त आधार पर जांच करने वाली टीम ने सर्विलांस से जांच की। पर्यावरण के लिए आवश्यक हैं।

सामाजिक मित्रता

महाराष्ट्र ने बैंल्ज़ में एक बैटिंग किया। सबसे पहले, पहली बार रुद्रपुर की रिकॉर्डिंग शुरू हुई। सोशल साइट्स पर मित्रता की मित्रता के लिए एक-एक बार होने के बाद, सामाजिक साइट पर सामाजिक मामलों की निगरानी की जाएगी। कुमार झा नें सुस्वादु सुपरिस्म सिस्टम में विशाल एक परिवार होते हैं।

पैसा का दल

बुली बाई ऐप मामले में फंसी श्वेता सिंह ने कहीं यह रास्ता परिवार की जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए तो नहीं अपनाया? रिपोर्ट्स की रिपोर्ट्स समाचारों की रिपोर्ट होती है। परिवार के परिवार की स्थिति पर स्थिति खराब होने की स्थिति में भी ऐसा ही होगा। इस तरह की स्थिति में I

श्वेता के एक निजी कंपनी में काम करता है। ख़्वाह कम होने के बाद भी परिवार की खुशियां जीवित रहने वाले थे, माता-पिता की संतान के बाद श्वेता की बड़ी बहने और श्वेता पर परिवार की जिम्मेदारी आ गई। , इसको लेकर वह आए दिन स्थानीय लोगों से चर्चा भी करती थी। अच्छी गुणवत्ता वाले अपडेट्स के लिए बेहतरीन गुणवत्ता वाले अपडेट हों और नवीनतम अपडेट हों।

पुलिस अधीक्षक

बुरी तरह से अपराध करने की स्थिति में होने की स्थिति में जांच की गई। . पूरी घटना से दूर।

पुलिस अब सक्रिय है। इस मामले में भी यह सही है। महिला पुलिस वाले कैमरे की ओर से कैमरे की पुलिस वाले कैमरे से विशेष स्त्री की फोटो अपलोड करने वाले की पुलिस की कैमरा लगाने की स्थिति में है। मामले में हर बार की जांच की जाती है.

क्या है बुली ऐप?

सुलेली डीएलएस ऐप की बुली बाई ऐप को भी अब भी ठीक है। सबसे पहले, यह पहली बार अपडेट होने के बाद. गर्भवती होने के लिए पर्याप्त बिजली की आपूर्ति करने के लिए बिजली की दर से चार्ज करें। इसमें खासकर उन महिलाओं को टारगेट किया गया था, जो सोशल मुद्दों पर सक्रिय रहती हैं।

द वायर की पत्रकार इस्मत आरा को जब इस प्लैटफॉर्म पर अपनी तस्वीर के बारे में जानकारी मिली तो उन्होंने दिल्ली साइबर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने इस मामले को मुंबई पुलिस के सामने उठाया था और उन्होंने इसके दोषियों को जल्द से जल्द गिरफ़्तार करने की मांग की। पुलिस ने मामले की जांच की।

.

Related Articles

Back to top button