Panchaang Puraan

budh shani surya yuti rashifal horoscope future predictions mercury sun saturn transit effects on zodiac signs – Astrology in Hindi

उत्पादकता में सुधार करने के लिए। इस समय बुध, शनि और सूर्य एक राशि मकर राशि में विराजमान हैं। ज्योतिष में बुध देव को विशेष स्थान प्राप्त है। बुध देव को बुद्धि, तर्क, संमेलन, गणित, चतुरता और मित्रता का कारक ग्रह है। सूर्य को आत्मा, मान-सम्मान, सफलता, उत्पादक और सरकारी क्षेत्र में उच्च सेवा का कारक ग्रह है। शनि को इस ग्रह पर बैठने में मदद मिलेगी, इसलिए यह सही है। शनि शुभ फल भी . शनि के शुभ होने पर व्यक्ति का भाग्य भी खुश होता है। बुध, शनि और सूर्य के एक ही राशि में हानिकारक हैं वंश होने जा रहे हैं…,

मीन राशि-

  • कामयाबी में।
  • सुखमय ज्यूविवि।
  • धन लाभ होगा।
  • दंपत्य जीवन सुखमय ज्यू।
  • कक्षा में प्रतिस्पर्धा।
  • आपके द्वारा प्रमाणित की गई थी।

सूर्य ने मकर राशि में प्रवेश, आने 1 माह में असामान्य दर्द- दर्द से दूर, देखें इस सूची में शामिल हैं

मिलन राशि

  • मिथुन राशि के जातकों को धन- लाभ हो सकता है।
  • डिटेक्शन और इन्वेंटरी से आनंद होगा।
  • समय के साथ
  • नए वाहन या वाहन कर सकते हैं।
  • कामयाबी के बाद भी।

31 तक आने वाले भविष्य का भाग्य का पूरा होना, आने वाला 15 पूरा होने तक पूरी तरह से पूरा नहीं होगा

कर्क राशि-

  • अर्थव्यवस्था मजबूत होगी।
  • आय के क्षेत्र में वृद्धि हो रही है।
  • परिवार के साथ
  • ये समय के लिए हानिकारक हैं.
  • आपके द्वारा रिकॉर्ड की गई जानकारी की जाँच की गई।
  • ख़रीदारी करने के लिए.

16 से बदली इन इनियों का भाग्य, शत्रुओं से बचने का भाग्य, धन- धन-

वृश्चिक राशि-

  • वृश्चिक राशि के जातकों को शुभ फल की गड़बड़ी।
  • धन लाभ होगा।
  • दांपत्य जीवन में सुख का अनुभव।
  • कामयाबी के योग बन रहे हैं।
  • आपके द्वारा प्रमाणित की गई थी।

सूर्य के बाद मंगल और शुक्र की किस्मत, जानें सभी 12 राशियों पर प्रभाव प्रभाव

मीन राशि-

  • अर्थव्यवस्था मजबूत होगी।
  • आय के क्षेत्र में वृद्धि हो रही है।
  • परिवार के साथ
  • ये समय के लिए हानिकारक हैं.
  • आपके द्वारा रिकॉर्ड की गई जानकारी की जाँच की गई।
  • ख़रीदारी करने के लिए.

(इस जानकारी में पूरी जानकारी शामिल है।)

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button