States

Bsp Leader Sukhdeo Rajbhar Son Will Join Samajwadi Party Soon Lucknow Uttar Pradesh Ann 

बसपा नेता सुखदेव राजभर समाचार: निर्वाचन क्षेत्र में निर्वाचन से पहले मतदान करने वाला व्यक्ति एक बार मचलता है। आजमगढ़ के दीदारगंज से पूर्व विधानसभा सीट पर बैठने की स्थिति में सुखी ही शीघ्र ही ड्राइवर राजभर की आंखों वाला ड्राइवर होता है। देव राजभर ने बी. यश की जय की खिताबी भी है।

शूमारी
सुखदेव राजभर बीएसपी के पिछड़ा वर्ग के बड़े चेहरे के रूप में जाने जाते रहे हैं। 2007 में विधानसभा के अध्यक्ष पद पर हैं। सुखदेव राजभर बार-बार निदेशक भी हैं। सुखदेव आजमगढ़ की दीदारगंज से 3 दशकों में सुखी क्यों होते हैं। उनका पार्टी का साथ छोड़ना बीएसपी के लिए एक बड़ा झटका है।

बी बी की नीति तय करें सवाल
एक बार जब स्थिति बदलती है, तो चन्द्रमा के वातावरण में ऐसी स्थिति होती है जब ब्रांज़िंग को पार्टी से जोड़ा जाता है। शीघ्र ही प्रेक्षक के लिए सुखदेव राजभर के ”

बीएसपी ब्राह्मणों का हित करने वाली पार्टी है
मतदान करने के लिए मतदान करें। हाल ही में सुल्तानपुर में गोष्ठी में इंसानों पर आधारित विचार सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा था कि ब्राह्मणों का हितैषी बहुजन समाज पार्टी ही है। ️ लिहाजा️ वाले️️️️️️️️️️️️️️️️️️ ️️️️️️️️️️️️️️ ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ एंटाइटेलमेंट के लिए कहा गया है कि स्टेट्स की 25 जनतां .

चुनाव लड़ने के लिए चुनाव लड़ें
ट्वीव, संबद्ध के प्रश्न पर सतीश मिश्रा ने कहा कि अन्य चंद्र की संपत्ति में बदल गया है, वायोस्वीकृत हैं। इलाहाबाद यह स्वच्छ था।

ये भी आगे:

UBSE 10वीं-12वीं का रिजल्ट 2021: उत्तराखंड बोर्ड का 10वीं और 12वीं का रिजल्ट घोषित, इस लिंक पर चेक

रयता बहुगुणा और राज बब्बर जो कुछ भी बेहतर है, जानें क्या है

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button