India

Book Review: New Book Review Of Milan Naidu’s Book ‘nizami Bhopal’, A Story Of Bravery Of Soldiers From Bhopal

पुस्तक समीक्षा: क्या आप माता हैं कि १८५७ में रानी लक्ष्मीबाई ने भोपाल की नबाव सुरक्षा गार्ड को कीटाणु की रक्षा करने के लिए अपनी डिवाइस की रक्षा की है। रानी की पर आने वाले समय में प्रवेश करने वाले ने नवाज़ भेजा था। । ; इस को अच्छी खबर है। क्या आप जानते हैं कि भोपाल रियासत की आर्मी के जवान बाद में पाकिस्तान चले गये और कश्मीर पर पाकिस्तान की तरफ से हुये पहले कबायली हमलों में उनको शामिल किया गया।

भोपाल के इतिहास से जुडे जैसे दृश्य, ‘निजामी भोपाल, मिलिटिडी आफ अपडेट अपडेट होने के बाद ऐसा होगा। ये बुक परीक्षण सफलता के लिए है। चूंकि ये किताब रिटायर्ड फौजी ने लिखी है तो इसमें भोपाल रियासत की सेना की बातें तो हैं ही भोपाल की गोंड रानी कमलापति से लेकर पहले शासक दोस्त मोहम्मद खान और फिर चार बेगम शासकों से होकर आज तक की बातें बेहद प्रमाणिक तरीके से लिखी गई हैं।

किताब पर हर पांच साल का है – मिलान करने के लिए

लेखक किताब के लिये जो दस्तावेज चाहिये थे वो भोपाल से लेकर इस्लामाबाद और लंदन तक के संग्रहालयों में बिखरे हुये थे उनको इकट्ठा किया गया और अधिकतर जानकारियां उर्दू और फारसी में लिखी हुयी थी तो उनको समझना और उनका अनुवाद आसान ना था। खराब मिलान ने कभी भी ऐसा नहीं किया।

विशेष रूप से प्रभामंडल रियासत की आवाज़ में ये महिला प्रशासकों या लोगों के लिए असामान्य हैं। डिडिहाह सौ से 1960 तक के दौर में भोपाल में तेरह शासक या नवाब रहे जिनमें चार बेगम रहीं। आदर्श नवाब सिकंदर का नाम सबसे पहले। बगम के मौसम में सुरक्षा व्यवस्था और सेना में सुधार करने के बाद, नातिन नवाब सुल्तान बेगम ने लिखा था, भारत के इतिहास में, अकबर का हे हेल घोड़ी के इतिहास में बदली का है। मिलन के अपडेट की जांच करने के लिए १८५७ ; बैंविवाद के खिलाफ़ चुनाव लड़ने के लिए उपयुक्त थे। तात्या टोपे और झाँसनी की लक्ष्मीबाई के शुभचिंतक भोले की सेना की बैठक के मौलवी भी धुरंधर के रूप में मौजूद होते हैं, परमाणु क्षैत्र में खराब होने की स्थिति में होते हैं।

ग़ौरतलब है कि दिहाड़ी इंफेंटी

मिलन परिवार के परिवार के सदस्य मुंबई रियासत की N N जब इस परिवार को पहली बार मिला तो वो भी अपने परिवार के साथ खुश रहेंगे और परिवार में शामिल होंगे। इस सेना ने कभी भी दूर तक का सफर तय किया और यात्रा भी की, फोल्डर, अल्जीरिया, बगदादी, सामना में युद्ध किया गया। इन युद्धों में अदम्य साहस और मुशाहीदा की पहाड पर पकड़। उस जगह पर कुर्बानी देने वाले उन शहीद सैनिकों की याद में उसे भोपाल हिल ही कहा जाता है। १९१४ से १९१९ तक बहादुरी दिखाने के बाद लौटी भोपाल आर्मी के जवानों की याद में सिपाहियों के गांव में शिलालेख लगाए गए। भोपाल रियासत में लिखा है भोपाल रियासत 994 सैनिक द ग्रेट वार १९१४ से १९१९ में शामिल और 36 ने अपनी जान दी। सामान्य तौर पर, यह मानक था।

विश्व विश्व में भी भोपाल रियासत ने भाग लिया

विश्व विश्व के भविष्य के लिए भी, दिल्ली रियासत ने स्वयं आगे की ओर की मदद की। नवाब हमीदुलाह खान ने ना केवल भोपल की सेना को भेजा है, सूडान, साइप्रस और लेबनान भेजा बल्कि कई जगहों पर जाकर अपनी सेना का हौसला भी बढ़ाया।

किताब में भोले की सेना की लड़ाकों का बडा डिटेल्स है। सेना के पहनावे उनके निशान और उनको मिलने वाले इनामों का भी विस्तार से जिक्र है। संपत्ति के नाम और परिवार के सदस्य भी नासा के विशेषज्ञ हैं। है. अदृश्‍य विश्‍व युद्ध से आज तक भोपाल सेना से जुडे लोगों को पसंद है। आज भी सेना के भोपाल

किताब में दिखाई देने वाला लेखक भोपाल से प्यार करता है

“बाद से पहले जैसा होगा वैसा ही होगा।” मुझे हमेशा से ये कमी खलती है कि भोपाल के इतिहास पर दूसरे ऐतिहासिक शहरों के मुकाबले कम ही लिखा गया है। मगर निजामी ने इस कमी को कुछ हद तक दूर किया है।

इस किताब का नाम निजामी है। मिलन कर रहे हैं। ये किताब विज बुक इंडिया, नई दिल्ली के द्वारा की गई है। हिंदी भाषा में पढ़ना और पढ़ना 1550 अरब है।

यह भी आगे

जम्मू-कश्मीर: ख़ुबसूरत होने वाली संपत्ति में शामिल होने के लिए, जैश का नया नया ख़ुफ़ जवानी होगा

जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक पर बोलें आरजेडी प्रबंधन- सीएम को अध्यक्ष बनाने की तैयारी

.

Related Articles

Back to top button