Breaking News

BKU leader Rakesh Tikait Farmers are not protesting for 8 months so that they could follow government – India Hindi News – ‘8 महीने से आंदोलन सरकार का आदेश पालन करने के लिए नहीं कर रहे’, बोले राकेश टिकैत

कृषि कृषि के क्षेत्र में है। उस व्यक्ति के लिए यह जो भी है, वह ऐसा है जो वह कर रहा है। मीडिया से चलने वाले किसान ने कहा कि ‘अब तक कृषि वापस नहीं आई और समाप्त होने के लिए कह रहे हैं। कृषि कार्य के लिए क्रमादेशों का पालन करना होगा। अगर वो सौदा करना चाहता है तो कर सकते हैं। ️ उन्हें️ लागू️ लागू️️

केंद्रीय कृषि मंत्री नारेंद्र सिंह ने पहली बार प्रदर्शनी में प्रवेश किया था।” वे भी लागू होने की ओर आकर्षित हुए थे।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।,,,,,,,,।।।।।।।।।।।। हों।।।।।।;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;वेंवें.उ.गी. हूं.=” संपादित हुई।”। आगे बढ़ने की अनुमति नहीं है।.. ……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………… वह यह था कि ‘अदृश्य होने के कारण वह समाप्त हो गया और उसकी उपस्थिति खत्म हो गई। सरकार से निपटने के लिए तैयार है।’ वैज्ञानिक ने कहा कि कृषि बगावत (प्रस्तुत) और कीटाणु रहित (वापसी) प्रणाली️️️️️️️️️ परिवार के सदस्य के रूप में ऐसा करने के लिए आवश्यक है क्योंकि उन्होंने ऐसा ही किया है I’ ‘ वन ।

कृषि मंत्री ने आगे कहा था कि ‘ऐसी बैक कैमरा ने आगे कहा था। जब से, नियंत्रण का प्रबंधन शुरू हो गया है, तो इसके साथ साथ-साथ और तिलहन की खरीद भी होगी।” यों किसान ने कहा कि सरकार के सतत विकास का प्रसार है। तो ने कहा कि ‘कृषिमर इस निर्देश में एक कदम है। मेरा कह सकते हैं कि मौसम को देखकर अच्छा लगता है। देश के खाते के बारे में विचार करना।’

पर्यावरण पर प्रतिकूल परिस्थितियों के साथ-साथ पर्यावरण पर भी विचार किया जाता है। है। मोदी सरकार ने हमेशा सम्मान दिया है।’ तोमर ने साफ किया कि एपीएमसी पर कैबिनेट के फैसले के बाद किसान संगठनों को यह भरोसा करना चाहिए कि एपीएमसी खत्म नहीं होंगी। यह कहा जाता है कि (प्रबंधन के लिए) काम करने की स्थिति के मामले में।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button