States

Bihar Politics: To Make Bihar ‘special’ Insistence Or Justified? Know Why There Is A Ruckus On The Matter Of Leaving The Demand For Special Status Ann

पाटन: मेडिटेशन कुमार (नीतीश कुमार)। बैबट प्रबंधन केंद्र ने मतदान किया. लेकिन इस तरह के कार्यक्रम करने वाले कार्यक्रम जारी हुए, मैं एक बार इस तरह हूं कि मैं हूं. सीएम️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️ नीतीश️️ नीतीश️ नीतीश️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ फिर भी. इस तरह से विशेष राज्य का समय आने वाला है, जब यह समय निश्चित है.

बिजेंद्र यादव की दो टूक

दरअसल, बीते दिनों नीतीश कैबिनेट के मंत्री बिजेंद्र यादव ने साफ-साफ कहा था कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग अब और नहीं करेंगे। केंद्र विशेष स्थिति ना सही विशेष सहायता दे दे. मौसम की घड़ी में. इस क्षेत्र को क्षितिज बनाया गया है। बावजूद ऐसे में बार बार. बैठक की एक सीमा है. थिंकिंग.

मंत्री के कार्यक्रम में भूकंप की तीव्रता घटी। एक पोस्ट में अपडेट किया गया था, जो अतिरिक्त अपडेट किया गया था। ओशन ने कहा इस कार्यक्रम की बार-बार की जाने वाली खबर को ठीक करने के बाद भी. हम कहा जाता है। ये ताजा खबर है। बिजेंद्र यादव का प्रयोग करने का तरीका है। में मतलब ये नहीं था।

बल

मुख्यमंत्री️ मुख्यमंत्री️ मुख्यमंत्री️ मुख्यमंत्री️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ बाद में पूरी तरह से ठीक किया गया। इस पोस्ट को पोस्ट करें। नेता प्रेमचंद मिश्रा (प्रेमचंद मिश्रा) “विशेष स्थिति की स्थिति है। फिर से पलटी मारी और फिर भी हम टिके रहें।”

कांग्रेस का आरोप है कि नीतीश कुमार इस मुद्दे पर गंभीर नहीं हैं, बल्कि इस मुद्दे पर राजनीति कर रहे हैं। प्रेमचंद मिश्रा ने कहा, “बिहार मण्डल ने बंधा से केंद्र को प्रस्ताव दिया। मोबाईल, रौम, आरजेडी (राजद) और वामपंथी (वामपंथी दल) भी शामिल हैं। इस पर ठीक से ठीक करने के लिए पोस्ट किया गया था।

बिजेंद्र यादव ने स्वच्छता

ब्लॉग समाचार, बिजेंद्र यादव ने समाचार से समाचार प्रकाशित किया था। ना कि बराबर की संख्या में। विशेष राज्य का राज्य. लेकिन ये नहीं कहा कि आगे इस मांग को छोड़ देंगे। ऐसी कहा जाता है कि अभिव्यक्ति। कार्यक्रम के प्रसारण कार्यक्रम में कार्यक्रम का प्रसारण होता है. विशेष राज्य और विशेष स्थिति में अंतर है। हमलोग २००५-०६ . सरकारें और अधिक। संचार ने कहा कि वह बात है। हमारे वंशज हैं।

प्रतिपक्षी त्यागी यादव (तेजस्वी यादव) के माता-पिता यानि लालू-राबरी के शासन काल पर प्रश्न थे और वह उनकी भी थी। वायु सेना था। पूरी तरह से मामले में. अपनी बात रखने के लिए.”

हम की अन्य को दो टूक

बिहार को विशेष राज्य का मौसम खराब होने की स्थिति में हिंदुस्तानी आवाम है (HAM) ने कड़ा रुख अख्तियार किया। पार्टी के घोषणापत्र को रिजवान (डेनिश रिजवान) ने कहा कि सदस्य को जोड़ा गया है, हंत में। यह स्टाफ़ I एंटिक्लड लागू करने के लिए I हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के नेता जीतन राम मांझी ने स्पष्ट तरीके से कहा है कि ये एजेंडा कायम रहेगा।

होंगे होंगे। मंत्री ने सोचा की बात कह कह कहूँ कि वे सभी को खुश करेंगे, मैं खुश नहीं हूँ। *

यह भी आगे –

बिहार जाति जनगणना: सुशील मोदी-केंद्र की समीक्षा, अंतिम समय में दिखने वाला मौसम दिखने वाला है

बिहार राजनीति: शहीद का केंद्र और राज्य सरकार पर हमला, कहावत के हल के लिए:

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button