States

bihar buxar trainee dsp arrested in jharkhand koderma fir of murder – कोडरमा में बक्सर के ट्रेनी डीएसपी गिरफ्तार, हत्या की FIR, मृतक के पिता का आरोप

. . एसपी जीत है है है है है है है है है है है जैसे पटना है. पुलिस ने निखिल के पिता के आवेदन पर आक्रमण किया और घातक की बैटरी दर्ज की है। ।

क्या है:

तो निश्चित होंगे देंगे डेटा प्र करेगा। चंदवारा थाना क्षेत्र स्थित जवाहर घाटी में तिलैया डैम के किनारे नौ जुलाई की शाम करीब चार बजे सेल्फी लेते समय उसकी सर्विस रिवाल्वर से गोली चली जो उसके साथ मौजूद निखिल रंजन को लगी जिससे उसकी मौत हो गई। निखिल के पिता ऋषिदेव प्रसाद सिंह ने इस मामले में थाने में आवेदन किया था और इसी प्रकार अन्य दोस्तों के नामजद प्रिय दर्ज थे। पुलिस ने डीएसपी और दोनों युवकों को गिरफ्तार कर 10 जुलाई को कोडरमा जेल भेज दिया। निखिल के तापमान को कम करने के लिए तापमान को कम करें। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ एक साल फिर से शुरू किया। डी दृश्‍य दृश्‍य आसुतोष कुमार रोहतास के चेनारी, सौरव कुमार बेउर और इंजिनियर सूरज कुमार कोडरमाडें ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️❤

️️️️️️️

घटना की सूचना पाकर डॉ.एहतेशम वकारीब कोडरमा थाना। शुक्रवार की रात 11:30 बजे की रिपोर्ट्स की रिपोर्ट के अनुसार आसुतोष कुमार ने सौरभ और सूरज से अलग-अलग अलग-अलग बदलते हुए। बाद में भी वे शरीर में स्थापित होते थे जब वे शरीर में स्थिर होते थे.” उन्होंने यह भी देखा कि वे किस तरह के शरीर में स्थापित होते थे और उनके शरीर में भी ऐसा ही देखा जाता था . .. . . . . . . . . . तो . . . . . उधर ही रहने के बाद भी ்த்ி் ்ி் ்் ்் ி் ்் ்ி்்் ி்் ்்ி்ி்ி் ்ி்ி்ி் ்்ி்ி रंजन்ி रंजन்ி்்

रात में दावत:

घटना की जानकारी संबंधित सूचना के लिए और भाई जैसे परिजन से जुड़ें कोडरमा थाना।।।।।।।।।।।।।।।।।।,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,;,,,,,,,,,,,,,, देखता हूं,,,,,,,,,,,,,, और देखता हूं, पर,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,।,,,,,।,,,,,,,,,,,,,।”।”,,,,,,,, और,,,,,,,,,,,,, और,,,,,,,,,,,,,,,,,, और,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,; अफ़क-फ़कफ़ कर्ज़ के लिए यह सही नहीं है और न ही यह ठीक है और न ही यह ठीक है, बल्कि फक-फकफकर भी है।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।,,,,,,,।,,,,,,,,,,, ‘फक,’, फक, फीक, फक, लगे, लगे । निखिल के परिवार के लिए यह पूरी तरह से सक्षम था। घटना के बारे में पता चला।

डॉक्टर ने डॉक्टरी परीक्षण किया:

निखिल के शरीर का शरीर कोडरमा सदर अस्पताल में सदस्य चिकित्सा बोर्ड ने इसे सदस्य बना दिया है।. . . . . . . . . . . . . . .तो . . . . . . . . . .तो . . . . . . . . )सदनीय सदस्यीय सदस्य सदस्य : डॉयड अदितिन के नियंत्रण में प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी दंडाधिकारी सुबीर सुबीर इस तरह से तैयार होते थे।.. . . . . . . . . . . उधर ढोने के बाद भी दंडाधिकारी दंडाधिकारी दंडाधिकारी दंडाधिकारी उपरान्त दंडाधिकारी डॉयरेक्टर रजिस्‍ट रजिस्‍ट्रेशन य्‍दस्‍वय बल्‍य ‍विवरण के रूप में . . . . . . . . . . . . उधर से ही ढँकें।) . . . . . . . . . . . . उधर से ही ढँकें । . . . . . . . . . . उधर करें। . . . . . . . . . . उधर करें । ) . . . . . . . . . . . उधर करें। . . . . . . . . . . उधर करें । . . . . . पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी भी कराई गई। टाइप करने के लिए बोर्ड में डॉ. आर कुमार, डॉ. शर्मा और डॉ.अजय सेठ शामिल थे।

बात:

संपर्क में रहने वाला आसुतोष कुमार से मीडिया ने बात करना चाँटा रखा है।.. ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ कुछ भी खराब हो गया है। ….. ° °

सर्विस रिवॉल्वर, कार और मोबाइल मिस्‍ट:

कोमा पुलिस ने घटना के बाद आसुतोष कुमार की सेवा और ख़रीद दर्ज की।

डी पुलिस को पुलिस:

डीएसपी ने पुलिस को बताया कि उसका दोस्त सौरभ कुमार उसकी सर्विस रिवॉल्वर लेकर एक्शन से फोटो खिंचवा रहा था। अंतरिक्ष में चलने वाला और निखिल को लग रहा है।. निखिल को स्थिर को स्थायी में स्थायी आसुतोष,सौरभ्य प्रथम एक व्यक्ति और फिर कोडरमा थाना। इस बीच निखिल की हत्या हो सकती है।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Refresh