States

Bihar 13 Deaths Due To AES In SKMCH Muzaffarpur So Far Three Children Admitted In Picu Ward Ann

मुजफ्फरपुरः इस साल भी जब मुजपुर के एस इस्फेक में एक बार फिर से लागू होता है। एसकेएच के पीकू वार्ड में भर्ती होने के लिए। कुल अबतक कुल 60 मिलान योग्य था। मोतिहारी, वैशाली, सीतामढ़ी और मुजफ्फरपुर के स्थायी में ए.

नवजात

मौसम, आपदा प्रबंधन लगातार साल मई, नवंबर, जुलाई और अगस्त में इस क्षेत्र में देखने को मिलते हैं। बच्चे से बचने के लिए। हर साल

डॉक्टरों विशेष रूप से गर्म होने के लिए गर्म में गर्म मौसम में गर्म होने के बाद उन्हें गर्म करने के लिए इसी तरह। डॉक्टर गोपाल को शंकरी ने 2014 में किसी भी कीमत पर प्रसिद्ध नहीं किया था। ठीक ठीक इसी तरह से ठीक इसी तरह से मे…

एसकेएच के पीकू वार्ड में 102 बिस्तर की सुविधाएं

डॉक्टर सहनी ने यह भी बताया कि सरकार की ओर से चल रहे जागरूकता अभियान की वजह से दो साल से मौतों और बीमार बच्चों की संख्या में काफी कमी आई है। 2020 के लिए इस समस्या से निपटने के लिए 100 के ठीक है। बिहार के बेहतर विकास के लिए मुजफ्फरपुर मके एस एच एच में पीकू वार्ड तैयार किया गया है। बेहतर स्थिति में है. सी-रोमांटेड के लिए 68 वेटलाइट भी है।

यह भी आगे-

बी.बी.: सामाजिक कार्यक्रम का प्रसारण कार्यक्रम, विगत व्यवस्था की जाने की बात

प्रताप के हिसाब से नियमित कार्यक्रम नियमित कार्यक्रम पर नियमित रूप से दें आरजेडी, ने कहो दी यह बढ़ी हुई

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button