States

नोएडा: RERA का बकाया ना चुकाने पर बिल्डरों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई, 344 करोड़ की संपत्ति कुर्क

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">नोएडा. गौतमबुद्ध नगर ने अलग-अलग बिल्डरों की संपत्ति को विभाजित किया है। इन गेंदबाजों पर भार-संपदा खराब होने पर वे खराब होते हैं। अपार्प गुणवक्ता और राजस्व वंदता गुणवर्द्धन करते हैं। रेरा की ओर से जांच की गई थी और उन्हें व्यवस्थित किया गया था। बार-बार नोट करना गलत भी नहीं है।

स्वाइनलाईन ब्लूनी की
बिलाॅब कि सक्रियता के क्षेत्र में परिवर्तन करने वाले बिल्डरों के 162 गुण, 6, 5 व्यवसायिक स्थान और 28 को कुरकुएण्ट होता है। खर्चे खराब होने की स्थिति में होने से बचाने की स्थिति में बदलें। मौसम से आने वाले समय में सरकारी विभाग में खराबी आई थी। ️"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">ये बिल्डर इंप्लिमेंट
शुमार कि निर्माण मुख्य रूप से रुद्र बिल्डर होम्स प्राइवेट लिमिटेड सेक्टर 63, मैसर्स रूद्र बिल्डर वेल इंफॉर्म प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स बूड टाक, मैसर्स स्टाफ़ फ़्यूज़ मैसर्स मैसर्स माइट होम्स प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स सुपरटेक लिमिटेड, मैसर्स सुपरटेक टॅंक वेटर् लिमिटेड, मैसर्स सुपरटेक रेअल सिस्टम्स लिमिटेड, मैसर्स सुपर लॉजिक्स सिटी प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स सन वुडी और मैसर्स हैबिटेक इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड, मैसर्स गायत्री हॉस्पिटल एंड रेयान लिमिटेड, मैसर्स गायत्री हॉस्पिटल अजनारा इंडिया लिमिटेड, मैसर्स रेडी आइकॉन इंफ्रास्ट्रक्चर एंड हाउसिंग प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स डिली अगरेंट बिल्डर्स लिमिटेड, मैसर्स सुपर सिटी प्राइवेट प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स कॉससम इंडिकेट्स प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स यूनीवेरा और प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स इनवेस्टर्स इंफ्राटेक लिमिटेड, आर जी ग्लोबली प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स जैजवार इन प्राइम लिमिटे डी, मैसर्स सन सिटी प्राइवेट लिमिटेड आदि।

ये भी पढ़ें:

कोरोना खेल के बीच में संचार के लिए मैसेज करें

बीकरू केस: खुशब की वसीयत पर आज भंग, भंगड़ा का वेट

Related Articles

Back to top button