Education

भुखमरी दिवस कब मनाया जाता है? | World Hunger Day

When is Hunger Day celebrated? | bhukhmari divas kab manaya jata hai

विश्व में कई तरह की महमारियाँ है:-  जैसे हैजा, मलेरिया, कोविड-19 आदि। भुखमरी भी उन्हीं में से एक है। आज इस लेख के माध्यम से हम भुखमरी के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी प्राप्त करेंगे। आज के हमारे इस लेख का विषय है bhukhmari divas kab manaya jata hai. तो चलिए लेख शुरू करते हैं:-

भुखमरी क्या होती है? | bhukhmari kya hota hai

भुखमरी की स्थिति तब पैदा होती है, जब खाने वालों की जरूरतों के हिसाब से खाना बहुत ही कम मात्रा में उपलब्ध हो। विश्व में बहुत सारे देश या इलाके ऐसे हैं जो बहुत ज्यादा भुखमरी से जूझ रहे हैं।

यदि साधारण शब्दों में कहां जाए तो भुखमरी वह होती है जिसमें लोग खाना ना मिलने के कारण अर्थात भूख के कारण मर जाते हैं।

भुखमरी के कारण कुपोषण रोग होता है जो कि जानलेवा बीमारी होती है। जो व्यक्ति कुपोषण से ग्रसित हो जाता है उसकी जान जाने के अधिक चांस होते हैं।

भुखमरी दिवस कब मनाया जाता है? | bhukhmari divas kab manaya jata hai

भुखमरी दिवस यानी कि World hunger day. ये दिवस विश्व स्तर पर मनाया जाने वाला दिवस है। जो हर साल 28 मई (28 May) को मनाया जाता है।

भुखमरी दिवस मनाने का उद्देश्य

भुखमरी दिवस कब मनाया जाता है? | bhukhmari divas kab manaya jata hai

इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर में भूख के कारण मर रहे 690 मिलियन लोगों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। इसका उद्देश्य केवल जागरूकता फैलाना ही नहीं बल्कि गरीबी को समाप्त करना भी है।

यह एक पहल है जिसके माध्यम से खाना बर्बाद ना करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है ताकि वह खाना किसी जरूरतमंद के पेट तक पहुंच सके।

Wastage की बजाय यदि यही खाना किसी जरूरतमंद को मिले, इसी तरफ लोगों को जागरूक करने के लिए भुखमरी दिवस मनाया जाता है।

भुखमरी दिवस बनाने का इतिहास | bhukhmari divas ka itihaas

यह एक अंतरराष्ट्रीय पहल है, जो गैर-लाभकारी संगठन “द हंगर प्रोजेक्ट” के द्वारा शुरू की गई थी। इससे विश्व भूख दिवस के नाम से जाना जाता है।

यह मुहिम 2011 मे पहली बार भूख को समाप्त करने के लिए वैश्विक स्तर पर मनाया गया। संयुक्त राष्ट्र ने 2030 तक “शून्य भूख” प्राप्त करने का लक्ष्य रखा है।

इस दिन की एक खास बात यह भी है कि इस दिन किए जाने वाले इवेंट, भूखमरी को खतम करने के लिए decide की गई एक special theme के तहत organize किए जाते है।

द हंगर प्रोजेक्ट का मुख्यालय न्यूयॉर्क USA में, 1970 में स्थापित किया गया और यह भारत देश के 6 राज्यों में कार्य करता है।

भुखमरी दिवस 2022 की थीम

हर वर्ष भुखमरी से संबंधित एक थीम तय की जाती है, जिसके अनुसार विश्व भूख दिवस पर सभी आयोजन आयोजित किए जाते हैं। इस साल 2022 में विश्व भूख दिवस #YouthEndingHunger के अनुसार मनाया गया।

यह थीम मुख्य रूप से विश्व भूख दिवस और वैश्विक खाद्य संकट आज के youth को किस तरह से प्रभावित करता है, इस पर विशेष ध्यान देने के लिए समर्पित है।

विश्व भर की भूख से संबंधित रिपोर्ट

Global network against food crisis (GNAFC) के द्वारा “ग्लोबल रिपोर्ट ऑन फूड क्राइसिस 2022” रिपोर्ट जारी की गई, जिसके अनुसार 193 मिलियन से अधिक लोगों ने पिछले वर्ष यानी 2021 में संकट या बत्तर खाने की सुरक्षा का अनुभव किया है। यह आंकड़े 53 देशों के है।

Global hunger index के अनुसार आंकड़े

ग्लोबल हंगर इंडेक्स के द्वारा 2021 में जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार 116 देश ऐसे हैं जिनके किसी न किसी क्षेत्र में लोगों के द्वारा भूखमरी का सामना किया जा रहा है। इस इंडेक्स की रिपोर्ट के अनुसार भारत 116 देशों में से 101वे स्थान पर है और यदि हम भारत के पड़ोसी देशों की बात करें, तो उसमें बांग्लादेश 76वे स्थान पर, पाकिस्तान 92वे स्थान पर और नेपाल 75वे  स्थान पर हैं।

भारत में भुखमरी पर स्थिति

साल 2019 में कोविड के समय में जब भारत में लॉक डाउन हुआ, तो भारत के कई राज्यों को भी खाने की कमी का सामना करना पड़ा था। ऐसे लोग जो रोज कमाने वाले होते हैं उन्हें दो वक्त की रोटी के लाले हो गए थे। हालांकि, इस कठिन समय में कई सामाजिक संगठनों व सरकारी संस्थाओं ने इस समस्या से निपटने में काफी मदद की थी।

परंतु इसके बावजूद भी कई आंकड़े बताते हैं कि कोरोना महामारी से पहले भी देश के लाखों लोग ऐसे हैं, जो बिना खाने के भूखे पेट सोते हैं और आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि भारत में प्रति व्यक्ति के द्वारा हर साल लगभग 50 किलो खाना waste कर दिया जाता है।

विश्व स्तर पर भुखमरी के बारे में facts

  • दुनिया भर में टीबी, मलेरिया, एड्स जैसी महामारीओं के मुकाबले भूख से ज्यादा मौतें होती हैं।
  • करोना कॉल मे महामारी की वजह से 130 मिलियन लोगों का भुखमरी से सामना करने का अनुमान लगाया गया था।
  • दुनिया भर में भुखमरी9% लोगों को effect करती है।
  • दुनिया भर में लगभग 690 मिलियन लोग भुखमरी का सामना कर रहे हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों, आज के इस लेख में हमने आपको bhukhmari divas kab manaya jata hai के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी है। आशा करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। यदि इस लेख से संबंधित कोई भी प्रश्न आपके मन में है तो आप हमें कमेंट करके जरूर पूछें।

FAQ

भुखमरी का मतलब क्या होता है?

भुखमरी विटामिन, पोषक तत्वों और ऊर्जा के सेवन की गंभीर कमी है। यह कुपोषण का सबसे चरम रूप है। लंबे समय तक भूखे रहने से शरीर के कुछ अंग स्थायी रूप से नष्ट हो सकते हैं और अंत में मृत्यु भी हो सकती है। अपक्षय शब्द का तात्पर्य भुखमरी के लक्षणों और प्रभावों से है।

भूख दिवस कब मनाया जाता है?

खाद्यान्न की समस्या को देखते हुए संयुक्त राष्ट्र ने 16 अक्टूबर 1945 को विश्व खाद्य दिवस मनाना शुरू किया जो अभी भी जारी है।

भारत में भुखमरी की क्या स्थिति है?

संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य और कृषि संगठन द्वारा जारी वर्ष 2018 की रिपोर्ट में बताया गया था कि भारत में लगभग 190 मिलियन लोग भूख और कुपोषण से पीड़ित हैं, यानी दुनिया के लगभग 24 प्रतिशत कुपोषित और भूखे लोग हैं। यह देश।

भारत में कितने लोग भूख से मरते हैं?

इस पर केंद्र सरकार ने कहा कि देश में भूख से कोई मौत नहीं हुई।

Related Articles

Back to top button