Education

बारिश क्यों होती है? बारिश के क्या फायदे और नुकसान

varsha kaise hoti hai in hindi | information about rain in hindi

दोस्तों, बारिश एक ऐसा प्राकृतिक वरदान है जो कई लोगों के लिए नया जीवन लेकर आता है, और कुछ लोगों के लिए यह अभिशाप बन जाता है। लेकिन बारिश प्रकृति की एक ऐसी कला है जिसे देखकर लोग अक्सर यह सोचते हैं कि इतना सारा पानी आकाश से नीचे कैसे आता है।

बारिश होने की प्रक्रिया कई बार लोगों को विस्मृत कर देती है। क्या आप भी यह जानना चाहते हैं कि बारिश क्यों होती है? यदि आप भी यह जानना चाहते हैं तो आज के हमारे इस लेख के साथ अंत तक बने रहिएगा।

क्योंकि आज हम आपको बताएंगे कि बारिश क्या है, बारिश कैसे होती है, बारिश क्यों होती है, बारिश के होने की प्रक्रिया क्या है, बादल कैसे बनते हैं, आसमान में बर्फ कैसे बनती है, बारिश के क्या फायदे हैं, बारिश के क्या नुकसान है, इन सब के बारे में आज हम आपको सारी जानकारी देंगे। तो चलिए शुरू करते हैं-

बारिश क्या है? | barish kya hai

varsha kaise hoti hai

जब धरती से उठने वाली भाप या फिर नम हवा आकाश में जाकर बूंदों के रूप में एकत्रित हो जाती है, और आसमान से धरती पर वापस आना शुरू हो जाती है तो इस प्रकार से पानी का आसमान से धरती पर नीचे आना बारिश कहलाता है। इसे वर्षा के नाम से भी जाना जाता है। हालांकि इसके कई कारण होते हैं या कुछ विशिष्ट कारण होते हैं जिसके कारण बरसात होती है।

एक साधारण भाषा में समझाने के लिए हम आपको यह भी बता सकते हैं कि जब नमी वाली गर्म हवा किसी को चुनाव वाले ठंडे इलाके में पहुंचती है, तो वह आसमान की ओर तेजी से चली जाती है। वहां पर और अधिक ठंडा वातावरण उन्हें एकत्रित करके ठंडे ठंडे पानी की बूंदों के रूप में परिवर्तित कर देता है।

जहां से वे पानी की बूंदे अधिक वजन होने के कारण बादलों को छोड़कर या आसमान को छोड़कर धरती पर आने लगती है, और ऐसे ही पानी की करोड़ों बूंदे एक साथ धरती पर नीचे आती है और बार-बार नीचे आती है इस प्रक्रिया को ही वर्षा कहा जाता है।

बारिश क्यों होती है? | barish kyu hoti hai

बारिश कैसे होती है, या बारिश होने की प्रक्रिया क्या है, और बादल कैसे बनते हैं यह सब कुछ आपस में जुड़े हुए हैं। इसका हम आपको एक ही जवाब देने का प्रयास करते हैं। दोस्तों, जब सूरज की तेज किरणें धरती पर पड़ती है, तो नमी वाले इलाकों में या समुद्र से पानी गर्म होकर टुकड़ों में टूटने लगता है, और वही टुकड़े वायु में मिल जाते हैं और वह वायु भाप/वाष्प कहलाते हैं। जो कि काफी हल्की होती है।

यह हल्की वायु गर्मी इलाकों में तेजी से आसमान की ओर बहने लगती है, क्योंकि गर्मी सदैव नीचे से ऊपर की ओर जाती है और आसमान की ओर पहुंचने पर वातावरण जल्दी से ठंडा होने लगता है, और जैसे ही वातावरण ठंडा होने लगता है यह भारत की हवाएं और अधिक तेजी से ऊपर जाकर सगन होने लगती है, और आपस में एक दूसरे से जुड़ने लगती है, जो हमें बादल के रूप में नजर आती है।

यह बादल जब एकत्र हो जाते हैं तब यही बादल पानी की भाप की बूंदों को एकत्र करने लगते हैं, और जब बूंदे एकत्र हो जाती है तब सामान्य बादल के घनत्व की तुलना में इनका वजन काफी अधिक हो जाता है, और तब बादल पानी की बूंदों की वर्षा करने लगते हैं। यहां पर हमने आपको बता दिया कि बारिश क्यों होती है, वर्षा होने की प्रक्रिया क्या है, और बादल कैसे बनते हैं।

आसमान में बर्फ कैसे बनती है? | aasman me barf kaise banta hai

जब पृथ्वी पर साधारण सतह का तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से कम होता है, और ऐसी परिस्थिति में आसमान में तापमान कई बार माइनस में चला जाता है और इसीलिए बादलों का तापमान कई बार -10 डिग्री सेल्सियस से भी कम पाया जा सकता है।

ऐसी परिस्थिति में बादल पानी की बूंदों को जब इकट्ठे करने लगते हैं तो वह पानी की बूंदे आपस में जमने लगती है, और जैसे ही जमी हुई पानी की बूंदों का भार अधिक हो जाता है तो वे बादल से छूटकर नीचे गिरने लगती है।

नीचे जाते समय हवा के थपेड़ों से वह टूट कर अलग अलग हो जाती है और नीचे और अधिक तापमान ठंडा होने के कारण वही पानी की बूंदे छोटे-छोटे कणों में विभक्त होकर बर्फ का रूप ले लेती है। इस प्रकार आसमान से बर्फ गिरती है।

बारिश के क्या फायदे हैं? | barish ke kya fayde hote hain

बारिश से कई प्रकार के फायदे हमें मिलते हैं,

  • यदि बारिश के पानी में हम तो संतान रहते हैं तो हमें काफी हल्का महसूस होने लगता है, और हमारे शरीर में विटामिन B12 का उत्पादन अधिक होने लगता है।
  • हमारे शरीर में हार्मोन अल बैलेंस होने लगता है।
  • शरीर से स्ट्रेस दूर होने लगता है।
  • हमारे बालों के लिए भी यह फायदेमंद होता है।
  • बारिश का पानी कई बार उबालकर किया जाए तो इससे स्पष्ट पानी और स्वच्छ पानी और दूसरा कोई नहीं हो सकता।
  • बारिश होने से फसलों को जीवनदान मिलता है।
  • फसलें लहराती है, हरियाली चारों ओर छा जाती है, बारिश से मौसम सुहावना हो जाता है, बारिश एक खुशनुमा सपना सा लगता है, बारिश का पानी एकत्र करके पीने के लिए काम में आता है, बारिश का पानी भूमिगत जल को बढ़ाने में काम आता है। यह नहर कुएं और जलाशयों का जल स्तर बढ़ाता है गर्मियों में बरसात एक वरदान से कम नहीं है।

बारिश के क्या नुकसान है? | barish ke kya nuksan hote hain

  • बारिश के कोई भी नुकसान नहीं होते हैं। हालांकि कुछ विशेष परिस्थितियों में बारिश नुकसान कर सकती है।
  • यदि किसी कारणवश बाढ़ आ जाए और उसके पश्चात बारिश भी हो जाए तो वह नुकसान कर देती है।
  • इसलिए जानवर पनपने लगते हैं, बीमारियां फैलने लगती है, और कुछ विशेष कारणों में यदि बरसात की अति हो जाए तो वह फसलों को बर्बाद कर सकती है, जिससे किसान आत्महत्या भी करने लगते हैं।
  • अत्यधिक बरसात बाढ़ ला सकती है और भूस्खलन कर सकती है।
  • बरसात के समय मौसम में चारों और नमी हो जाती है जिससे कई बार हमारा खाना सुरक्षित नहीं रह पाता है, और उस पर कीड़े लग सकते हैं।
  • कई बार बारिश की वजह से चिपचिपापन अधिक हो जाता है, और यह हमें अधिक क्रोध दिलाता है। बारिश के जितने फायदे होते हैं, उतने ही नुकसान भी होते हैं।

Also read:

निष्कर्ष

दोस्तों, आज के लेख में हमने आपको बताया कि बारिश क्यों होती है इसके अलावा हमने आपको यह भी बताया कि बारिश के क्या फायदे होते हैं, बारिश होने की प्रक्रिया क्या है।

हम आशा करते हैं कि आज का हमारा यह लेख पढ़ने के पश्चात आप बारिश के बारे में सारी जानकारी प्राप्त कर पाए होंगे, और यह समझ पाएंगे कि बारिश क्यों होती है।

जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। यदि आपके मन में इस लेख से संबंधित कोई सवाल है जो आप हमसे पूछना चाहते हैं तो कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट कर के पूछ सकते हैं।

FAQ

बारिश कितने प्रकार के होते हैं?

वर्षा तीन प्रकार की होती है:-

1. संवहनीय वर्षा (Convectional rain)
2. पर्वतकृत वर्षा (Orographical rain)
3. चक्रवातीय वर्षा (Cyclonic rain)

बारिश अच्छी क्यों होती है

ताजे पानी की बारिश पौधों से लेकर जानवरों से लेकर इंसानों तक हर जीव के जीवित रहने के लिए जरूरी है। ताजे पानी के स्रोत वाष्पीकरण की प्राकृतिक प्रक्रिया से समाप्त हो जाते हैं, और बारिश के दिन खोए हुए पानी से बदल जाते हैं। इसके अलावा, जब बारिश होती है तो यह बहुत सुंदर होता है!

ऐसा कौन सा गांव है जो बादलों से ऊपर है?

अल-हुतैब गांव पृथ्वी की सतह से 3,200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, इस गांव की सबसे खास बात यह है कि यहां कभी बारिश नहीं होती है। इसका कारण यह है कि यह गांव बादलों के ऊपर स्थित है। इस गांव के नीचे बादल बनते हैं और बारिश होती है। यहां का नजारा बेहद खूबसूरत है।

Related Articles

Back to top button