States

बाराबंकी मस्जिद मामला: इलाहाबाद हाईकोर्ट का पूर्व एसडीएम को नोटिस, मांगा जवाब

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;"> लखनऊ. इलाहाबाद उच‍च न्‍या लय की पीठ ने बाराब अंक में 17 मई को एक जहर एक के मामले में विपरीत परिस्थितियों का जवाब दिया। मर्टिंग कोर्ट ने बाराबंकी के सनेही के गुण के ऊपर, जैसा भी लिखा होगा वैसा ही लिखा होगा।

यमूर्ति राजन राय और न्याया सौरभ लवानिया की पीठ ने अंतरिक्ष यान मंत्र वक्फ बोर्ड व हशमत अली और अन्य की ओर से दो वादों पर यह क्रम जारी किया। अदालत ने समाचार पत्र में 15 नवंबर को आराम के लिए जमानत दी थी।

गतलब ने 17 मई की शाम को ठीक होने के लिए ठीक किया था। इस उत्तर प्रदेश में सुन्नी वक्फ बोर्ड के रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है। ट्विट, प्रबंधन का दावा है कि एक जीत हासिल की थी।

ये भी पढ़ें:

यूपी: संजय निषाद ने की वृद्धि के साथ, दैवीय चुनाव में मैनेज का चेहरा

यूपी के इन 16 में जलप्रपात का खतरा, कई नदियां खतरे के निशान से

Related Articles

Back to top button