Panchaang Puraan

Auspicious yoga is being made for two days ancestors will get salvation – Astrology in Hindi

गुप्तचरों को मुक्त करना है। . जालसाजी से कर्ज मुक्त हुआ है। वैज्ञानिक विज्ञान और ज्योतिषाचार्य महर्षि बोधायन का एक श्लोक गच्छा योग की स्थायी है: हंसेकरास्थित या तू अमावस्या कर्विता। सा ज्ञेय कुँजरच्छाया इति बौधायनोऽब्रह्मित।। दूषण भाद्रपद कृष्ण में योदशी को मंगल ग्रह हो, सूर्य नक्षत्र में हो और यह स्थिति अमावस्या तक अमावस्या में अमावस्या को पेश करेगी। इस संबंध में पितरों के निमित्त तर्पण से पुत्रों को मुक्ति मिलती है। .. धन्य-धान्य की कमी नहीं है। पितरों का पूर्ण आशीर्वाद …

यह भी आगे- श्राद्ध : कर्मकांडी ब्राह्मण से कराएं तर्पण

इस समय इस समय आश्विन कृष्ण त्रयोदशी 3 अस्तित्त्व रात 10:39 से प्रभात 3:10 बजे तक सुबह 4:30 बजे इस मौसम में मौसम नक्षत्र होगा और सूर्य अस्त नक्षत्र में होगा। होगा। मध्य रात्रि 1:10 बजे से 16:34 बजे तक पितृ अमावस्या के दिन। 15 20 मिनट तक का प्रदर्शन उत्तम सूर्य होगा और सूर्य देवता सर्वपितृत्व अमावस्या का पर्व होगा। मूवी ऑल पित्रोण के निमित्त-विधान से श्राद्ध से सक्रिय होने वाले पितरों को सक्रिय करने के लिए प्रेरित किया जाता है I
जैसे स्कंद पुराण, शास्त्र पुराण, वरहु पुराण और महाभारत में भी गच्छा योग का वर्णन है। इस तरह के वातावरण में फिट होने के लिए यह उपयुक्त है। गजच्छाया का एक अर्थ यह भी है कि किसी नदी किनारे हाथी की छाया में बैठकर अपने पितरों के निमित्त किया गया श्राद्ध, तर्पण एवं पिंडदान से हमारे पितर संतुष्ट होते हैं और उन्हें पितृ योनि से मुक्ति मिल जाती है। दैवीय प्रभामंडल से संबंधित हैं।
(ये सही ढंग से काम कर रहे हैं और जनता के लिए ऐसी स्थिति में हैं।)

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button