Panchaang Puraan

Ashtami and Navami Date 2022: When is the Maha Ashtami and Maha Navami of Navratri Know Kanya Pujan Muhurta

अष्टमी, नवमी कन्या पूजन समय 2022: नवरात्रि का पावन पर्व त्योहार है। नवरात्रि के अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग स्वरूपों की देखभाल की स्थिति है. नवरात्रि में अष्टमी और नवमी तिथि का विशेष महत्व है. अष्टमी के दिन माँ महागौरी व नवमी के दिन सिद्धिदात्री की विधि-विधान की देखभाल की व्यवस्था है। अष्टमी तिथि के अनुसार, अष्टमी तिथि पर मजबूत होता है। जानें नवरात्रि के अष्टमी व नवमी तिथि पर कन्या राशि वालों के शुभ मुहूर्त-

इसके अलावा: नवरात्रि का इन 5 राशियों के लिए विशेष, शनि ढैय्या वसाती से प्रतिनिधि सदस्य ये काम करें

नवरात्रि की महाष्टमी 2022 कब-

नवरात्रि की अष्टमी 3 अक्टूबर 2022, मंगल को। हिंदू पंचांग की तारीखें, अष्टमी तिथि 02 ऑक्टोर्ट को 06 बजकर 47 से शुरू होगा, जो कि 03 को 04 बजकर 37 पर फाइनल होगा। अष्टमी तिथि पूर्वजीत मुहूर्त सुबह 11 बजकर 46 बजे से सुबह 12 बजकर 34 बजे तक।

नवरात्रि की नवमी कब है?

शारदीय नवरात्र की तारीख 3 अक्टूबर 2022 को शाम 4 बजकर 37 से शुरू होती है। कन्फर्म 4 ऑब्जेक्ट 2022 को दोपहर 2 बजकर 20 पर होगा। उदया तिथि के दिन नवरात्रि 4 अक्टूबर 2022 को संशोधित करें।

इसके अलावा: दश के घंटे के दौरान ये विशेष रूप से महत्वपूर्ण है,

नवरात्रि 2022 व्रत पारण का समय-

हिन्दू पंचांग के अनुसार, नवरात्रि व्रत परण का समय इस बार 04 ऑक्टोब को दोपहर 02 बजकर 20 के बाद होगा।

कैसे करें

गर्भावस्‍था में गर्भावस्‍था के दौरान गर्भावस्‍था में गर्भावस्‍था होगी। फलों में मिलावट करना। भविष्यवाणी करने के लिए उपयुक्त भविष्यवाणी। एक भी वर्ण, जाति और धर्म की कन्या कन्या कन्या के लिए सुरक्षित है।

इसके अलावा: शुक्र की राशि में 4

कन्याओं को कन्या-

अगर आप समथवान् हैं, तो नौ से अधिक गलत होने के क्रम में भी जैसे 18, 27 36 कन्याओं को भी कर सकते हैं। कन्या के भाई की आयु 10 वर्ष से कम है तो आप कन्या के साथ कर सकते हैं। धन की संपत्ति की संपत्ति का मान और भी बढ़ जाता है। समथवान् हैं, तो भी किसी भी व्यक्ति के लिए धनकन्या की शिक्षा और स्वस्थ होने का संकल्प लें।

 

Related Articles

Back to top button