Lifestyle

Ashadh Amavasy 2021 Pitru Puja Importance Of Agriculture And Food Tarpan Know Shubh Muhurt

आषाढ़ अमावस्या 2021 तिथि: आषाढ़ मास में पूजा पाठ का विशेष महत्व है. आषाढ़ मास में जाने वाली पूजा का शुभ फल प्राप्त होता है। भगवान ️ इस मास में भगवान विष्णु की पूजा करने से जीवन में आने वाली परेशानियां दूर होती हैं और सुख समृद्धि प्राप्त होती है। आषाढ़ मास में अमावस्या की तारीख को विशेष महत्व दिया गया है। अमावस्या को अलग-अलग किस्म के अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग प्रकार के अलग-अलग हैं

  • आषाढ़ अमावस्या
  • हलहरीनी अमावस्या
  • अषाढ़ी अमावस्या

आषाढ़ मास की अमावस्या का संबंध कृषि से भी है। आषाढ़ मास की ये अमावस्या जीवन में कृषि और अन्न की अहम् अहमियत को अतिथि कहते हैं। । विशेष रूप से हलहरीनी अमावस्या भी। इस दिन कृषि कार्य से जुड़े लोग कृषि कार्य में प्रयोग में लाए जाने वाले उपकरणों की पूजा की जाती है। मुख्यत: किसान इस अच्छी फसल की देखभाल करते हैं।

सावन 2021: सावन का पहला सिर कब है? जानें, शुभ मुहूर्त और महत्व

पितृ पूजा
अमावस्या की तारीख को पितृगणना को विशेष महत्व दिया गया है। दिनांक पूर्व तिथियां समाप्त होने के बाद दिनांकित करें I + इसलिए आषाढ़ अमावस्या पर पितरों का सूक्ष्मताशोधन किया गया है I. प्रेक्षक स्प्रेडेड से संबंधित घटना में आने वाले समय में असामान्य परिवर्तन होते हैं जैसे-जैसे वायरस संक्रमण से संबंधित होते हैं। इस दिन आदि कार्य भी करना चाहिए।

आषाढ़ अमावस्या कब है?
पंचांग के हिसाब से आषाढ़ मास की अमावस्या 9 जुलाई 2021, दिन शुक्रवार को. व्रत और पूजा का कार्य. व्रत का पारण 10 जुलाई 2021

आषाढ़ अमावस्या का शुभ मुहूर्त
पंचांग के आषाढ़ मास अमास्या की तारीख 9 जुलाई की शुरुआत 5 बजकर 16 से शुरू होगी और 10 जुलाई 2021 की शुरुआत होगी। 06 कर 46 पर समाप्त होगा।

यह भी आगे

अर्थव्यवस्था राशिफल 04 जुलाई 2021: धनु राशिफल, धनु राशि राशि, 12 राशियों का राशिफल, 12 राशियों का राशिफल

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button