Lifestyle

Aja Ekadashi 2021 Know Paran Significance Paran Mehatav And Time On Ekadashi

आजा एकादशी 2021: अजा एकादशी इस बार 3 शुक्रवार को मेमेई. हिन्दू धर्म में एकादशी के व्रत की कला है। लोग लोग एकादशी के व्रत में विष्णु की पूजा की जाती है। ааи аи ааи аи аи ааи аи олиати олиати олиати олиати олиони. एकादशी के व्रत का पालन करना महत्वपूर्ण है। एकशी के व्रत में पारण का भी महत्व है। . इसलिए दैनिक जागरण से पहले पूरी जानकारी रखना महत्वपूर्ण है।

पारण ?
एकशी के व्रत में पारण का विशेष महत्व है. . इसे व्रत के दिन अगर ठीक रीति से पारण न करें तो व्रत का फल पूरा नहीं मिलता। नवरात्रि के व्रत के बाद सभी व्रतों को रद्द कर दिया जाता है। पाराण करने के लिए यह भी महत्वपूर्ण है।

पारण कैसे करें?
एकशी के जीवन को अलग-अलग दिनों में अपडेट किया जाना चाहिए। का पारण करने के लिए सबसे उत्तम समय है। जल्दी से जल्दी जल्दी जल्दी जल्दी करो। विष्णु भगवान विष्णु की पूजा करें। दुआओं के लिए प्रार्थना करें। अपने बाद के बाद के दिनों में व्यवस्था को व्यवस्थित करें।

पारण में क्या है
एकशी का पराण्टा वाक्य से ने कहा, तो व्रत का फल मिलता है। पारण के लिए सुवेरे उठकर स्नान करने के द्वारा सुप्रज्ञापित किया गया था। भोजन करने के बाद वह ठीक हो जाता है। पारण का सात्विक समान होना चाहिए। पारण के खाने में प्याज़, मांस आदि का उपयोग करना चाहिए। यह बहुत ही अच्छा है।

आजा एकादशी पारण समय

3 बजे पेशी वाला अजा एकादशी का पेशी के लिए पारण का समय 4 2021, सुबह 5:30 से सुबह 8:23 बजे तक।

यह भी आगे:

गणेश चतुर्थी 2021: गणेश जी की उपस्थिति में विशेष प्रकार की विशेषताएँ,

कृष्ण पक्ष उत्सव: भाद्रपद के कृष्ण कृष्ण में ये उत्सव, शुभ मुहूर्त और महत्व

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button