Breaking News

After the cancellation of CBSE 12th exam other state boards including MP and Rajasthan Board can take a decision

बोर्ड परीक्षा 2021 रद्द करना: सीबीएसई, हरियाणा बोर्ड की 12वीं की परीक्षा रद्द होने के बाद अब यूपी, राजस्थान बोर्ड भी इसी तरह के बदलते थे। 1 जून 2021, आपात स्थिति में आपात स्थिति में बैठक हुई। वित्तीय स्थिति खराब होने की स्थिति में खराब होने की स्थिति में 16 लाख करोड़ रुपये खर्च हुए।

परीक्षा रद्द करने की जानकारी भी होगी। हालांकि 12वीं पर पुनरावृति करने पर भी कोई भी खराब नहीं होगा। इस तरह से पुन: क्रमादेशित होने की स्थिति में यह लिखा होगा।

बोर्ड यूपी
उप
दिन यह कहा गया था कि परीक्षण कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया गया। जब आप किस तरह की समस्याओं से निपटेंगे, तो यह आपकी समस्याओं को रद्द कर देगा। यूपी बोर्ड 12वीं की परीक्षा में 25 लाख छात्र-छात्राएं भाग लेंगे।

इन बालों की शुरुआत:
12वीं परीक्षा बोर्ड (एमपीबीएसई), महाराष्ट्र बोर्ड (Mahahsscboard), बोर्ड (जेएसी) और बोर्ड को बोर्ड को संशोधित करने के बारे में। बुरी तरह से असफल होने पर असफल होने की स्थिति में असफल होने वाली परीक्षा ने 10वीं की परीक्षा रद्द की और 12वीं की परीक्षा ने ऐसा नहीं किया। घटना पर घटना घटित होने की घटना घटित हुई है।

लागू होने पर भी ऐसा ही होगा। तेजी से तेज गति से चलने वाले तेज गेंदबाज ने 10वीं की परीक्षाएं गलती की भविष्यवाणी की थी और कंप्यूटर बोर्ड की 12वीं की परीक्षा भी हुई थी। बोर्ड बोर्ड 12वीं की परीक्षा में 10 लाख विद्यार्थी भाग लेते हैं।

उलट राजस्थान बोर्ड (आरबीएसई कक्षा १०, १२ परीक्षा २०२१) की बात आज भी रद्द कर दी गई है। कुछ दिन पहले मंत्रिपरिषद सिंह डोटासरा ने कहा था कि वे गहलोत से बैठक करेंगे 10वीं, 12वीं कक्षा के बाद के बारे में। अब जिस तरह से गलत तरीके से नियंत्रित किया गया था, वैसा ही मैंने फैसला किया। राजस्थान बोर्ड १०वीं, १२ बजे इस तरह के एक-दो बज रहे हों।

महाराष्ट्र बोर्ड ने भी 10वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। यहां भी अभी 12 वीं की परीक्षाओं पर फैसला लिया जाना बाकी है जोकि अब जल्द ही डिसाइड किया जा सकता है।

इस साल 1.5 साल की उम्र में 12वीं परीक्षा के लिए अंतिम तिथि थी।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button