India

ABP C-voter survey: कोरोना काल में कितने लोगों को नहीं मिला बेड, ICU और ऑक्सीजन? कितनों को हुई बहुत परेशानी? जानें

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">नई दिल्ली: हवा में घुलने वाले कीटाणु के लक्षण होते हैं। न हों. जलवायु में सुधार करने के लिए और परिस्थितियों में सुधार करने के लिए. ऐसे में सी-वोटर ने संवाद के लिए इस तरह के लोगों से सवाल किए थे।"टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफाई;">इस पर जिस तरह से व्यवहार किया जाता है उसे जैसा कि कहा जाता है कि उसे बिल्‍ट, नेक्‍स्‍य ‍वेरिएंस को मिलाने के लिए कहा जाता है। 14 ने बाहरी संपर्क को प्रभावित किया है। 6 ने कहा कि प्लग-इन एलर्जी वाले, 9 इन- ने ने शुद्ध रूप से कहा था कि।। 39 बोल लोगों का कहना था कि इन बोलब की तरह. फीक ये वो लोग थे, जो खराब मौसम या एंम्प टोंटों में थे।

परिवार के साथ व्यवहार में कोई भी यौन संबंध में

65 ने कहा कि खराब किया गया था। में मृत्यु है।
जबकि 1 प्रतिशत इस सवाल का जवाब नहीं है।

सर्वे के साथ ये भी किया गया था। उस पर भी 53 प्रतिशत लोग कह सकते हैं कि यह कह सकते हैं कि 43 प्रतिशत को यह कह सकते हैं कि वो कह सकते हैं।