Breaking News

Aaftab Poonawala Shraddha Walker Murder Case Instagram Chat Police Questions – India Hindi News

ऐप पर पढ़ें

आफताब पूनावाला मामला: दिल्ली के श्रद्धा वाकर मर्डर केस ने सभी को झकझोर कर रखा है। हत्या कांड आफताब अमीन पूनावाला ने लिव-इन-पार्टनर श्रद्धा के बॉडी के 35 टुकड़े करने की बात कबूल की है। पुलिस आफताब को गिरफ्तार करके मामले की जांच कर रही है। अब जैसे-जैसे दिन रहे हैं, मामले से जुड़े कई अहम खुलासे हो रहे हैं। दस ने लेकर पुलिस को बताया कि खुद के फोन से घर से निकली थी, लेकिन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर ऑनलाइन चैट और सच्चाई सामने आ गई। श्रद्धा के पिता द्वारा उनकी बेटी के लापता होने की शिकायत दर्ज के बाद पुलिस ने आफताब को 28 अक्टूबर से 3 नवंबर तक पूछताछ के लिए बुलाया, जिसमें उन्होंने बताया कि श्रद्धा 22 मई को झिलमिलाहट के बाद घर से निकली थी।

ऑनलाइन ट्रांजेक्शन से खुल गया पोल
पूछताछ में आफताब ने पुलिस को बताया कि जरूरी कपड़े और अन्य सामान अपना मोबाइल फोन लेकर घर से निकली थी। पुलिस ने तब पीड़िता की मोबाइल टेलीफोन स्थिति और उसके कॉल विवरण को ट्रैक किया और पाया कि 26 मई को श्रद्धा वाकर के लाभों से आफताब पूनावाला के लाभों में 54,000 रुपये उसके फोन पर बैंकिंग ऐप का उपयोग करके वोटिंग किए गए थे। इंडिया टुडे के अनुसार, श्रद्धा के टेलीफोन की बातें महरौली के छतरपुर में मिलीं, जहां वे एक साथ किराए के मकान में रहते थे। जब आफताब ने पूछताछ में बताया कि 22 मई को श्रद्धा के जाने के बाद से ही वह उसके साथ संपर्क में नहीं है, तो यह बात पुलिस अधिकारियों को पच नहीं सकी।

पुलिस का सवाल टूट गया था आफताब
इसके अलावा, आफताब ने 31 मई को श्रद्धा के इंस्टाग्राम अकाउंट का भी इस्तेमाल किया और अपने एक दोस्त से बात की ताकि ऐसा होने पर वह जीवित रहे। पुलिस ने जब शुभ्र के मोबाइल का एक ट्रेस की तो वह महरौली थाना क्षेत्र के पास मिल गया। इसके बाद पुलिस ने आफताब को गिरफ्तार कर लिया और फिर सवाल-जवाब किए, जिससे मामला की सच्चाई सामने आ गई। पुलिस ने उससे पूछा, ”यदि श्रद्धा ने 22 मई को ही घर छोड़ दिया था, तब वह सोच अब भी महरौली कैसे दिखा रही है?” इस सवाल के बाद आफताब गया और उसने पुलिस को पूरे मामले की असलियत बताई। उसने बताया कि 18 मई को दोनों का झगड़ा हुआ था, जिसके बाद उसने गला घोंटा और फिर उसके शरीर को 35 घरों में काट दिया।

महरौली के घने जंगल में आफताब ने टुकड़े फेंके थे
पुलिस ने बताया कि उसने शरीर के कटे हुए हिस्सों को स्टोर करने के लिए 300 गवाह की जिम्मेदारी ली और उन्हें कई दिनों तक दक्षिण छतरपुर महरौली वन क्षेत्र में फेंक दिया। उसने पुलिस के सामने स्वीकार किया कि उसने अपने शरीर के अंगों का पालन किया था और उसके शरीर के एक टुकड़े को ठिकाने लगाने के लिए हर रात अपने अपार्टमेंट से बाहर चुना था। उसके शरीर के अंगों को पूरी तरह से ठिकाने लगाने में 16 दिन लगेंगे। दोनों की मुलाकात 2019 में एक डेट ऐप पर हुई थी और कुछ समय के लिए मुंबई में रहने के बाद ये कपल दिल्ली शिफ्ट हो गए। दोनों में अक्सर लड़ाई होती थी और श्रद्धा ने अपने एक दोस्त को बताया था कि आफताब ने उसे फोन किया था। पुलिस ने बताया कि आफताब अमीन पूनावाला ने अपने लिव-इन दिखावे की हत्या के एक महीने बाद डेटिंग ऐप के जरिए एक और लड़की को अपने घर पर भी बुलाया था।

Related Articles

Back to top button