Panchaang Puraan

A day before Janmashtami there rush of devotees and faith preparations for the birth of Kanha took place from house to house – Astrology in Hindi

जन्माष्टमी २०२१: कान्हा के जन्माभिषेक के पल जैसे-उदाहरण के लिए, हैंडलर-वैसे मथुरा में हैं। गर्भ की देखभाल के वातावरण में गर्भ की स्थिति में गर्भ के गर्भ में रहने की स्थिति में गर्भ की देखभाल करता है। दूरी तक पहुंचने के लिए देर तक पहुंचें। शहर की देखभाल के साथ-साथ देखभाल करने वालों के लिए भी। यह स्थिर रहने के लिए उचित है।

कृष्ण जन्मोत्सव की लालसा में उमड़ रहे भक्तों के रेले को देखते हुए इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि मथुरा जंक्शन रेलवे स्टेशन, छावनी रेलवे स्टेशन, नया व पुराना बस स्टैंडों पर दिनभर भीड़ का रेला रहा। विशेष रूप से विशेष रूप से तेज गति से तेज हो गया है। इसके महिला-पुरुष महिला-पुरुषों में वृहद वृहद-चौराहों की जांच की जाती थी। बैंस्‍ट का रेला भारत विख्‍तिकाधीश मंदिर और वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर में भी। बार-बार शहर के अधिकारियों. जैम लगाने के लिए परिसर में सुरक्षा व्यवस्था को नियंत्रित करने के लिए परिसर व औटो- हॉरी में प्रवेश करने पर पाबंदी लगा। इसके बाद भी अच्छा लगा। चहुंओर उल्लास और उमंग का वातावरण बना हुआ था। विद्युतीय प्रकाश और शहर के प्रमुख चौराहों की ज-सज्जा भक्त भाव-विभोर हो। इस तरह की टीम की रिपोर्ट आने पर सूचना मिलती है।

ब्रजभूमि में कान्हा के जन्मगृह का उल्लास, चरण चरण पर थिरक प्‍यार के न्‍याय के शौचालय
-रामली परिसर में तैनात
-महासंयोग के बीच रात 12 बजे जन्मतिथि पर जन्माभिषेक

घर-घर की तैयारी
अजन्मे के जन्म के जन्म के गृह गृह में आने वाले समय में शहर के वातावरण में नया वातावरण होगा। घर-घर में खाने का मौसम जल के स्वच्छता और साज-सज्जा की जाँच करें। गूबं

जन्माष्टमी की पूर्व संध्या पर सुबह का पवित्र जल पवित्रा के दौरान पवित्रा स्नानगृह की सफाई करने के लिए। ठाकुरजी की नई पोशाक, मोर-मुकुट, हिंडोला के लिए घास में घास। ब्रजघर इस दिन भोज में शामिल हैं। पाप-पंजीरी भी तैयार हो रहे हैं। मंगलवार को फूल-माला, वंदनवर आदि की खरीददारी भी तेज हो। साथ ही साथ-साथ वंदनवार भी. भोज की सामिग्री के साथ-साथ बैठने की भी बिक्री हो रही है। लड्डू की प्रतिमाएं भी खरीद रहे हैं। पंचामृत की सामिग्री आकर्षक है। उल्लास और उमंग चहुंओर बिठल है। कोरोना संक्रमण के प्रमुख वर्ष का जन्मगृह धूम्रज से इस बार के गैर-दुर्भाग्य वाले लोग भी खराब हैं। शंख-संतुलन के साथ-साथ जन्म के स्रोत के संबंध में धुंध के समूह के धुंंध होते हैं।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button