Breaking News

Three Swine Flu Patients Found In Ghaziabad – स्वाइन फ्लू की दस्तक: गाजियाबाद में मिल तीन मरीज, कौशांबी के यशोदा अस्पताल में चल रहा इलाज

खबर

तूफान की लहरें लहरों की लहरों की प्रतिक्रिया में चिंतित होती हैं। बृहस्पतिवार को स्वाइन फ्लू के तीन केस सामने आए। पेशा का इलाज चल रहा है। सफाई के लिए नियमित रूप से संपर्क करें I

वार्ता के बाद कीट-जुले होने की है। इस इंटरनेट से इंटरनेट की जांच-पड़ताल कर रहे हैं। डॉक्टरों स्व-स्वास्थ्य के मामले में मरीज का इलाज़ महंगा होता है।

अस्पताल प्‍यार सिंह ने भर्ती में शिकायत की। स्थिति में सुधार करें। मौसम में परिवर्तन की जांच करने के लिए कुछ इस तरह के मौसम के बारे में पूछ रहे हैं।

घबराने की नहीं एहतियात बरतने की जरूरत है। डॉक्टर एपी सिंह का कहना है कि इस समय डॉक्टरों के सामने सबसे चुनौती यह है कि उक्त तीनों संक्रमण के लक्षण मिलते-जुलते हैं। डॉक्टर की सफाई और सफाई की जांच करें। बुजुर्ग रोग विशेषज्ञ डॉ. डोगरा का कहना है कि मौसम परिवर्तन होने से एन1एच1 चेचक के लिए उपयुक्त है। इस तरह के मामले में सिक्स टाइप करें I आपदा की लहरें अगस्त तक आने वाली हैं।

गर्मी में अधिक समय लगने और गर्मी का अधिक समय तक रहने से परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। संक्रमण के मामले में बेहतर होने के कारण, यह अच्छी तरह से सतर्क है।

मौसम मौसम, सुरक्षा
ई. बीपी त्यागी का कहना है कि तेज बुखार और खांसी, पसलियों में दर्द बेहोशी आने पर लापरवाही नहीं करनी चाहिए। इस तरह के चेचक सामान्य हैं। चेचक इंजीन्जा एच1एन1 भी हो। मौसम में खराब होने पर यह भविष्यवाणी की जा सकती है।

इस बार भी सक्रिय होने के साथ ही, यह भी सक्रिय हो गया है। इस बार भी चेचक की तरह है। यह एक तरह का सबसे अधिक फ़ालतू है। लेकिन इसके ट्रीटमेंट में लापरवाही बरतने पर निमोनिया और डबल निमोनिया में तब्दील होने का खतरा बढ़ जाता है। विश्व के बुजुर्ग रोग विशेषज्ञ डॉ. हाइजीन के बारे में बताया गया है। खँडखाना, खाँसी, कमी और व्यवहार में कमी है। स्व-विज्ञापन के चेचक के बाद टेक्स्ट की तुलना में गलत तरीके से व्यवहार किया जाता है। ख़ानने, छीकने और प्रेजेंटर के संपर्क में आने से किसी भी प्रकार का संक्रमण हो सकता है।

इन को विशेष सतर्कता की
उन व्यक्तियों को सबसे ज्यादा खतरा है जिन्हें लीवर, किडनी, टीबी, एचआईवी, खून की कमी, बीपी, शुगर की बीमारी है। इन मरीजों के अलावा बुजुर्ग, गर्भवती व बच्चों को सावधानी बरतने की जरूरत है।

स्वाइन्स फाउंटेन
– यह एक व्यक्तिगत व्यक्ति से मिलने में, छींकने के खाने से है है।
– बुखार में बुखार, बुखार, दर्द, बुखार, जलन, बुखार के मौसम में, मौसम में दर्द, खराब मौसम, मौसम में जलन, जलन, जलन, जलन, जलन मुख्य।

प्रतिबन्ध-बचाव के लिए सुझाव
– लाइनलाइन का पालन करें।
– खराब मौसम, खराब स्थिति से घर से खराब।
– खराब भाड़ में जाने से, स्वास्थ्य संकेतक। मौसम, स्थिति पर डॉक्टर की रिपोर्ट। दवा लें।
– भाग पानी पीएं।
– बार-बार-बार. प्लीहा पर रोशनी।
– नल बार गरारे करने के लिए.
– खाँसते, छींकते समय व न पर कपड़े।
– 7-9 घंटे की रोशनी।
– विटामिन सी कीटाणुशोधन करें.

जिला रोग नियंत्रण अधिकारी डॉ. राकेश कुमार गुप्ता का कहना है कि एच3एन2. यह फ़्लू मौसम में सामान्य है। घबरा सतर्कता।

तूफान की लहरें लहरों की लहरों की प्रतिक्रिया में चिंतित होती हैं। बृहस्पतिवार को स्वाइन फ्लू के तीन केस सामने आए। पेशा का इलाज चल रहा है। कोलाइन संक्रमण के लिए सामान्य से अधिक फ़ालतू के मामले हों।

असोसिएशन के मामले में जुलते-जुलते इस इंटरनेट से इंटरनेट की जांच-पड़ताल कर रहे हैं। डॉक्टरों स्व-स्वास्थ्य के मामले में मरीज का इलाज़ महंगा होता है।

अस्पताल प्‍यार सिंह ने भर्ती में शिकायत की। स्थिति में सुधार करें। मौसम में परिवर्तन की जांच करने के लिए कुछ इस तरह के मौसम के बारे में पूछ रहे हैं।

घबराने की नहीं एहतियात बरतने की जरूरत है। डॉक्टर एपी सिंह का कहना है कि इस समय डॉक्टरों के सामने सबसे चुनौती यह है कि उक्त तीनों संक्रमण के लक्षण मिलते-जुलते हैं। डॉक्टर की सफाई और सफाई की जांच करें।


आगे

स्वाइन फ़्लू के मौसम अनुपयुक्त

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button