Panchaang Puraan

2nd day of navratri maa brahmacharini puja vidhi shubh muhurat favourite things to offer shardiya navratri 2021 – Astrology in Hindi

नवरात्रि दूसरा दिन: आज नवरात्रि है। नवरात्रि के दिन के दूसरे स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी की पूजा- क्र.सं. माँ ब्रह्मचारी श्वेत वस्त्रों को धोने और बैठने के लिए अष्टालेख की लाइन और बाई टेबल में बैठने के लिए मानक हैं। माता ब्रह्मचारिणी ने शिव को पति में बदल दिया था, इसलिए वे थे से मंत्र को तपश्चर्य ब्रह्म में ब्रह्मचारिणी नाम से गए थे। मां ब्राह्मणी की पूजा- ️️️️️️️️️️️

मेरी प्रिय वस्तु

  • सलाह के अनुसार माता ब्रह्मचारिणी को गुडहल, कमल, श्वेत और पुष्प प्रिय। दुसरे पर्व पर मां कोहल, कमल, श्वेता और पुष्पांजलि।

माँ का भोग-

  • रात भर रात भर खाना खाने के बाद। है। माँ ब्रह्मचारी को दूध और दही बनाने के व्यंजन।

आज सूर्य की किरणें इन राशियों का भाग्य, मीन से मीन राशि तक का हाल

इन शुभ मुहूर्तों में पूजा- क्रंच-

  • ब्रह्म मुहूर्त– 04:39 ए एम से 05:29 ए एम
  • अभिजित मुहूर्त– 11:45 ए एम से 12:32 पी एम
  • विजय मुहूर्त- 02:05 पी एम से 02:52 पी एम
  • गोधूलि मुहूर्त– 05:47 पी एम से 06:11 पी एम
  • अमृत ​​काल- 11:00 ए एम से 12:27 पी एम
  • निशिता मुहूर्त– 11:44 पी एम से 12:33 ए एम, ऑब्जेक्ट 09
  • सूर्य योग- 06:59 पी एम से 06:18 ए एम, 09

दिवाली 2021: दिवाली पर इन राशियों पर माता लक्ष्मी की कृपा, ईश्वर का वसीयत शुभ

पूजा-विधि-

  • घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित के बाद माँ दुर्गा का गंगा जल से अभिषेक करें।
  • माँ दुर्गा को अर्घ्य।
  • मांज को अक्षत, सिन्दूर और लाल रंग के रोग, प्रसाद के रूप में फल और फलियां।
  • धूप और दीपक जलाकर दुर्गा चालीसा का पाठ और फिर माँ की आरती करें।
  • माँ को भोग भी। इस बात का भी ध्यान रखें कि सात सात्विक सम्भोग का भोग भोग्य हों।

संबंधित खबरें

.

Related Articles

Back to top button