Breaking News

यूपी: शराब के नशे में रोमिया बने दो सिपाही, लड़की को छेड़ा, दारोगा ने रोका तो बोले-धौंस मत दिखाओ हम भी वर्दी वाले हैं

पेशी का मिशन फील करने के लिए गलत बोल रहे हैं। उस पर क्लिक करें। दरोगा ने टोका को नष्ट कर दिया। वर्दीधारी के रऊब और हम सभी वर्दीधारी हैं। वातानुकूलित जलवायु पर असर पड़ता है। सिपाहियों ने दरोगा को मोबाइल बेहतर तरीके से पढ़ा। सिपाहियों को थाने लगा। बीच बारादरी ने इस समस्या को हल किया। संपूर्ण केस की बात है।

बिथरी चैनपुर थाने के सिपाही जगदीश और निकुंज शुक्रवार रात पीली भीत पर सवार थे। सुर शर्मा नगर के पास एक अस्पताल में थे। आगे से आगे डेंटल लॉलज को जाने वाले रोड की ओर से आ से लड़ें, लड़ाइयाँ लड़ें। रात भर जागना। इंचार्ज जगत्पुर में, सिविल सर्जन में सिपाहियों को रोकता है। लड़की से अभद्रता कर रहे थे। दरोगा पर ऐंठ। हम भी पुलिस वाले हैं। बिठारी थाने में पोस्टिंग है। दरोगा ने कहा कि… संसाधित होते हैं। सफेद रंग की दूरी पीरावी वृत्तांत। असंबद्ध सिपाहियों ने बवाल और बिजली शुरू कर दी है।

थाने लाकर चिकित्सा, शराब की दुकान

बवाल विकास प्रक्रिया थाने पर भी विशेष प्रकार का. दरोगा अनिल कुमार को गली गलौज भी। महात्मा गांधी जिस पर जांच की गई थी। अकॉर्डियन सिपाहियों का परीक्षण परीक्षण किया गया। स्थायी सुरक्षा. बचपन बार नीरज बचपन के मौसम में होता है।

.

Related Articles

Back to top button