Panchaang Puraan

मैं ऐसा हो जाऊं जैसे मैं हूं ही नहीं

गो महावीर की शिक्षा में अहिंसा का मर्माड़ पिच है। अहिंसा के एक शब्द में व्याकरण की परिभाषा है। अगस्त अहिंसा में सामान्य रूप से सुंदर अर्थ में, धुम महावीर के संदेश को कवर कदाचित… .

Related Articles

Back to top button